DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बांदा › महिला की मौत पर अब तक स्थिति साफ नहीं
बांदा

महिला की मौत पर अब तक स्थिति साफ नहीं

हिन्दुस्तान टीम,बांदाPublished By: Newswrap
Wed, 02 Jun 2021 05:10 AM
महिला की मौत पर अब तक स्थिति साफ नहीं

बांदा। वरिष्ठ संवाददाता

कछुआ गति जांच से अब तक मेडिकल कॉलेज में महिला की मौत से पर्दा नहीं उठा सका। मृतका के बेटे ने ऑडियो वायरल कर इलाज में लापरवाही से मौत का आरोप लगाया था। मामले के तूल पकड़ने पर एडीएम नमामी गंगे की अगुवाई में तीन सदस्यीय टीम बनी। टीम को जांच के लिए नियुक्त हुए करीब 20 दिन होने को हैं। पर अब मामले में सभी बयान तक नहीं हो सके।

शहर निवासी कोरोना संक्रमित महिला को परिजनों ने मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया था। दो मई को महिला की मौत हो गई थी। करीब 10 दिन बाद सोशल मीडिया पर एक ऑडियो वायरल हुआ। वायरल ऑडियो कोविड कंट्रोल रूम के कर्मचारी और मृतका के बेटे के बीच बातचीत का था। कर्मचारी के हालचाल पूछने पर युवक ने मां की मौत होने की जानकारी दी। साथ ही इसके लिए मेडिकल कॉलेज डॉक्टरों को जिम्मेदार बताया था। आरोप था कि मां की सांस उखड़ रही थी और जूनियर स्टाफ मशीन चालू करने के लिए वीडियो कॉल पर जानकारी ले रहा था। स्टाफ को कोई जानकारी नहीं थी। मां की हालत जब बहुत गंभीर हुई तो उन्हें आईसीयू में शिफ्ट किया गया था। इससे पहले मेडिकल कॉलेज स्टाफ के हाथ-पैर जोड़ता रहा। लेकिन किसी ने नहीं सुना था। यहां तक सांसद-विधायक और प्राचार्य से भी मदद के लिए फोन किया था। कोई भी आगे नहीं आया। लापरवाही से मौत के आरोप का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद हड़कंप मच गया था। आनन फानन में डीएम आनंद कुमार सिंह ने जांच के लिए एडीएम नमामी गंगे की अगुवाई में डीएसपी और मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर के साथ तीन सदस्यीय टीम गठित की। टीम अब तक न तो मृतका के बेटे का बयान ले पाई। न ही सभी मेडिकल स्टाफ का। ऐसे में अब हकीकत जांच के बीच दबी है।

एडीएम नमामी गंगे एमपी सिंह का कहना है कि इधर काफी व्यस्तता के कारण मेडिकल कॉलेज स्टाफ के बयान नहीं हो पाए हैं। वहीं, युवक से संपर्क किया गया तो उसके यहां तेरहवीं संस्कार में व्यस्तता की बात सामने आई थी। इससे जांच पेंडिंग है।

संबंधित खबरें