ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश बांदायूरिया के लिए किसानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग किया जाम, लाठीचार्ज

यूरिया के लिए किसानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग किया जाम, लाठीचार्ज

बबेरू (बांदा)। संवाददाता डीएपी के बाद अब यूरिया के लिए जिले में हायतौबा

बबेरू (बांदा)। संवाददाता 
 
 डीएपी के बाद अब यूरिया के लिए जिले में हायतौबा
1/ 2बबेरू (बांदा)। संवाददाता डीएपी के बाद अब यूरिया के लिए जिले में हायतौबा
बबेरू (बांदा)। संवाददाता 
 
 डीएपी के बाद अब यूरिया के लिए जिले में हायतौबा
2/ 2बबेरू (बांदा)। संवाददाता डीएपी के बाद अब यूरिया के लिए जिले में हायतौबा
हिन्दुस्तान टीम,बांदाMon, 27 Dec 2021 04:55 PM
ऐप पर पढ़ें

बबेरू (बांदा)। संवाददाता

डीएपी के बाद अब यूरिया के लिए जिले में हायतौबा मची है। सोमवार को किसानों ने यूरिया के लिए राजापुर-कमासिन राष्ट्रीय राजमार्ग जाम कर दिया। पुलिस के समझाने पर भी नहीं हटे तो बल प्रयोग करते हुए लाठीचार्ज करनी पड़ी। इसमें किसी का सिर तो किसी का पैर लहूलुहान हुआ। इस पर भीड़ तितर-बितर हुई। देर शाम तक पुलिस की निगरानी में खाद बंटी।

कमासिन ब्लॉक के लोहरा गांव नारायणपुर सोसायटी की खाद इस्लाम नगर लोहरा में बांटे जाने की जानकारी पर सोमवार सुबह से ही सोसाइटी के बाहर किसानों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई। दोपहर करीब 12 बजे तक सोसाइटी के बाहर खाद के लिए डेढ़ हजार से ज्यादा किसान जुट गए थे। किसानों को पता चला कि सिर्फ पांच सौ बोरी ही खाद रात को आई थी तो हंगामा करने लगे। हंगामा करते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग कमासिन-राजापुर को जाम कर दिया। इससे मार्ग के दोनों ओर करीब दो किलोमीटर तक वाहनों का रेला लग गया। जाम में कई एंबुलेंस भी फंसी रही। जानकारी पर कमासिन थाना प्रभारी सुभाष चौरसिया पहुंचे। उन्होंने किसानों को समझाने का प्रयास किया। लेकिन किसान राष्ट्रीय राजमार्ग से हटने को राजी नहीं थे। काफी मान-मनौव्वल के बाद भी जब किसान नहीं हटे तो पुलिस ने बल प्रयोग किया। लाठियां पटकीं। लाठियां चलाने पर भीड़ तितर-बितर हुई। इसमें किसी का सिर तो किसी का पैल लहूलहुहान हुआ।

पूर्व विधायक ने किया विरोध

जानकारी पर पूर्व विधायक विशंभर सिंह यादव मौके पर पहुंच गए। उन्होंने बल प्रयोग का विरोध किया। कहा कि किसानों को आसानी से जरूरत की खाद मिल जाए तो हंगामा करने का सवाल ही नहीं है। किसानों को खाद मिल ही नहीं रही है। हंगामा करना मजबूरी है।

थाना प्रभारी सुभाष चौरसिया ने बताया कि किसान राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम किए थे। उन्हें हटने के लिए कहा गया। लेकिन हटने को राजी नहीं हो रहे थे। सड़क के दोनों ओर काफी जाम लग रहा था। मजबूरी में लाठियां पटकनी पड़ीं। भगदड़ आदि में गिरने से चोट लगी होगी। लाठीचार्ज नहीं की गई।

दो किसानों ने घूम-घूमकर दिखाई चोट

50 वर्षीय किसान कामता पुत्र छोटाई निवासी लोहरा का आरोप है कि पुलिस की लाठी से पैर फट गया। खून दिखाते हुए बताया कि लाठियां बरसाई गईं। वहीं, किसान रामसिंह के सिर पर लाठी लगी थी। उन्होंने पूर्व विधायक के पहुंचने पर चोट दिखाई।

शाम तक बंटवाई यूरिया

थाना प्रभारी ने बताया कि भीड़ को नियंत्रित कर लाइन में लगवा शाम करीब पांच बजे तक यूरिया बंटवाई गई। बताया कि पांच सौ बोरी ही सोसाइटी में यूरिया आई थी। सभी को नहीं मिल पाई। इससे बहुत से लोगों को लौटना पड़ा।