DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बांदा › तीसरी लहर में बच्चों को इलाज में नहीं होगी दिक्कत : संयुक्त निदेशक
बांदा

तीसरी लहर में बच्चों को इलाज में नहीं होगी दिक्कत : संयुक्त निदेशक

हिन्दुस्तान टीम,बांदाPublished By: Newswrap
Thu, 08 Jul 2021 05:31 AM
तीसरी लहर में बच्चों को इलाज में नहीं होगी दिक्कत : संयुक्त निदेशक

बांदा। वरिष्ठ संवाददाता

तीसरी लहर का बच्चों पर सर्वाधिक असर पड़ने की आशंका है। बच्चों के इलाज में किसी तरह की दिक्कत न आए। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग पहले से अलर्ट है। बाल रोग विशेषज्ञ समेत अन्य स्टाफ को प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया गया है। जिला महिला अस्पताल के हौसला प्रशिक्षण हाल में बुधवार को 30-30 के बैच बनाकर कोविड-19 प्रबंधन में बाल चिकित्सा देखभाल का प्रशिक्षण शुरू किया गया है।

चित्रकूट धाम मंडल के संयुक्त निदेशक डा. एनएस तोमर ने बताया कि कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत जनपद के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में पीकू (पीडियाट्रिक आईसीयू) वार्ड तैयार किए गए हैं। इसके अलावा जिला अस्पताल में भी पीडियाट्रिक वार्ड बनकर तैयार हो गया है। इन सभी वार्डो में ऑक्सीजन और वेंटीलेटर इत्यादि लगाए गए हैं। सभी जरूरी सामान भी पहुंचाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि अब प्रशिक्षण देकर आखिरी तैयारी हो रही है।

सीएमओ डा. एनडी शर्मा ने कहा कि 30-30 के बैच में दो दिवसीय 7 व 8 जुलाई, 9 व 10 तथा 12 व 13 जुलाई तक होगा। एसीएमओ डा. मनोज कौशिक को प्रशिक्षण के पर्यवेक्षण का जिम्मा सौंपा गया है। लखनऊ से आए प्रशिक्षक डा. वीके श्रीवास्तव ने कहा कि बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। जिस प्रकार से कोरोना संक्रमण अपना स्वरूप बदल रहा है, वह बच्चों के लिए बहुत घातक साबित हो सकता है। बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए अभी से तैयारी कर ली गई हैं। उन्होंने बच्चे संक्रमित होने पर उसे पीड्रियाट्रिक वार्ड में भर्ती करने और उपचार के टिप्स दिए। प्रशिक्षक डा. सौरभ ने बच्चे की स्थिति गंभीर होने पर आईसीयू व वेंटीलेटर में इलाज की जानकारी दी। प्रशिक्षक नर्स मेंटर सुनीता ने भी टिप्स दिए। प्रशिक्षण में सीएमएस डा.यूबी सिंह, महिला सीएमएस डा. चारू गौतम सहित बाल्य रोग चिकित्सक, स्टाफ नर्स, कम्युनिटी हेल्थ अफसर रहे।

संबंधित खबरें