DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बांदा › स्तनपान बनाए बच्चे को आयुष्मान
बांदा

स्तनपान बनाए बच्चे को आयुष्मान

हिन्दुस्तान टीम,बांदाPublished By: Newswrap
Sat, 31 Jul 2021 11:11 PM
स्तनपान बनाए बच्चे को आयुष्मान

बांदा। वरिष्ठ संवाददाता

कोरोना की संभावित तीसरी लहर का सबसे ज्यादा असर बच्चों पर पड़ने की चर्चा के बीच यह भी जानना जरूरी है कि जो माताएं बच्चे को सही समय पर और सही तरीके से भरपूर स्तनपान कराती हैं, उन्हें बच्चे को लेकर बहुत चिंता करने की जरूरत नहीं होती है। मां के दूध की अहमियत सर्वविदित है, यह बच्चे को रोगों से लड़ने की ताकत प्रदान करने के साथ ही उसे आयुष्मान भी बनाता है। इसके प्रति जागरूकता के लिए ही हर साल एक से सात अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है।

जिला महिला अस्पताल में तैनात बाल रोग विशेषज्ञ डा.एचएन सिंह का कहना है कि शिशु के लिए स्तनपान अमृत के समान होता है। यह शिशु का मौलिक अधिकार भी है। मां का दूध शिशु के मानसिक और शारीरिक विकास के लिए बहुत ही जरूरी है। यह शिशु को निमोनिया, डायरिया और कुपोषण के जोखिम से भी बचाता है। इसलिए बच्चे को जन्म के एक घंटे के भीतर मां का पहला पीला गाढ़ा दूध अवश्य पिलाना चाहिए। यह दूध बच्चे में रोग प्रतिरोधक क्षमता पैदा करता है, इसीलिए इसे बच्चे का पहला टीका भी कहा जाता है। उन्होंने बताया कि मां के दूध में शिशु के लिए पौष्टिक तत्वों के साथ पर्याप्त पानी भी होता है। इसलिए छह माह तक शिशु को मां के दूध के अलावा कुछ भी न दें। यहां तक कि गर्मियों में पानी भी न पिलाएं। ध्यान रहे कि रात में मां का दूध अधिक बनता है, इसलिए मां रात में अधिक से अधिक स्तनपान कराएं। यह सामान्य तापमान पर आठ घंटे तक पीने योग्य रहता है।

यह भी जानना जरूरी

यदि केवल स्तनपान कर रहा शिशु 24 घंटे में छह से आठ बार पेशाब करता है, स्तनपान के बाद कम से कम दो घंटे की नींद ले रहा है और उसका वजन हर माह करीब 500 ग्राम बढ़ रहा है, तो इसका मतलब है कि शिशु को मां का पूरा दूध मिल रहा है।

शिशु के लिए स्तनपान के फायदे

बाल रोग विशेषज्ञ का कहना है स्तनपान से शिशु को बेहद फायदे हैं। मां दूध शिशु को सर्वोत्तम पोषक तत्व, सर्वोच्च मानसिक विकास में सहायक, संक्रमण से सुरक्षा (दस्त-निमोनिया), दमा एवं एलर्जी से सुरक्षा, शिशु के ठंडा होने से बचाव, प्रौढ़ एवं वृद्ध होने पर उम्र के साथ होने वाली बीमारियों से सुरक्षा इत्यादि फायदे पहुंचाता है।

संबंधित खबरें