DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनदेखी के चलते अस्तित्व खो रहे नगर के प्राचीन सरोवर

अनदेखी के चलते अस्तित्व खो रहे नगर के प्राचीन सरोवर

नगर के तालबों का अस्तित्व मिटता चला जा रहा है। तालाब के भीठो में अतिक्रमण की वजह से उनका वजूद लगभग खत्म हो गया है। कुछ तालाब ही बचे है जिन पर भूमाफिया की निगाहें गड़ गई है।

नगर अतर्रा में अति प्राचीन तालाब धोवा तालाब व मूसा तालाब में अतिक्रमण कारियों के कब्जों से तालावों का अस्तित्व ही लगभग समाप्त हो गया है। यही हाल देविन तलैया, गर्गन तलैया, दामू तालाब, गौतम तलैया का है। इन तालाबों के दोनों किनारों से अतिक्रमण कर उसका स्वरूप बहुत संकीर्ण कर दिया है। जब कि नगर पालिका के अभिलेखों में अच्छे खासे रकबे के तालाब व तलैया दर्ज है।

कभी तालाबों का था वैभव

अतर्रा कस्बे में चारो तरफ तालाबों की अच्छी खासी संख्या थी। ऐतिहासिक गौरा बाबा तालाब में हाथी नहाता था। यहां कमल के फूल गर्मियों में सुंदरता को बढाते थे। अब यहां गंदगी का आलम यह है कि दुर्गंध उठती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Ancient lake of the city lost due to ignorance