DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शहरों की दूरियां घटीं, दिलों की बढ़ गयीं!

लखनऊ-छपरा-लखनऊ एक्सप्रेस का ठहराव बैरिया क्षेत्र के अति महत्वपूर्ण स्टेशन सुरेमनपुर में शुरू हो गया। इस स्टॉपेज ने शहरों की दूरियों को भले ही कम कर दिया हो लेकिन एक ही 'परिवार' के लोगों के दिलों की दूरियां बढ़ा दी है। मंगलवार की सुबह सुरेमनपुर रेलवे स्टेशन पर सांसद भरत सिंह की मौजूदगी में आयोजित कार्यक्रम से बैरिया विधायक सुरेन्द्र सिंह का अलग रहना काफी कुछ कह गया। यही नहीं, जिस ट्रेन को सांसद ने सुबह में हरी झंडी दिखाकर सुरेमनपुर से छपरा की ओर रवाना किया, उसी ट्रेन की वापसी पर शाम को विधायक ने हरी झंडी दिखाने का कार्यक्रम तय कर दिया। बकायदा कार्यकर्ताओं व समर्थकों का जुटान भी हुआ। 
दरअसल, सांसद व विधायक के बीच मनमुटाव की खबरें पिछले कुछ दिनों से हवा में लगातार तैर रही हैं। एससी-एसटी एक्ट में संसोधन के खिलाफ आयोजित 'बंद' के दौरान बैरिया में हुए बवाल ने इसे और बल दे दिया। बंद के दौरान दो पक्षों में हुई मारपीट में विधायक व बैरिया नपं चेयरमैन प्रतिनिधि आमने-सामने आ गए थे। थाने में घंटों जिच के बाद मुकदमा तक की कार्रवाई हुई। उसके अगले दिन विधायक व चेयरमैन प्रतिनिधि ने अपने-अपने समर्थकों का जुटान भी बैरिया डाक बंगला में किया था। उस दौरान आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी चला। विधायक व चेयरमैन प्रतिनिधि के विवाद की आंच सांसद तक भी पहुंची। सोशल मीडिया पर सांसद व विधायक समर्थक आमने-सामने आ गए। सांसद व चेयरमैन प्रतिनिधि की नजदीकियां इसकी बड़ी वजह मानी गयी।
मंगलवार को सुरेमनपुर रेलवे स्टेशन पर कार्यक्रम के दौरान भी सांसद के साथ चेयरमैन प्रतिनिधि पूरी ऊर्जा के साथ नजर आए। शायद यही वजह रही कि विधायक ने खुद को इस आयोजन से दूर रखा। 'हिन्दुस्तान' से बातचीत में विधायक का इशारा भी इसी ओर था। 
हालांकि बताया जाता है कि दो दिन पहले ही यह तय हो गया था कि सांसद व विधायक का कार्यक्रम स्टेशन पर अलग-अलग ही होगा। एक ही राजनीतिक दल के इन नेताओं का विवाद अंतत: किस मुकाम पर पहुंचेगा, यह देखना वाकई दिलचस्प होगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The distances of the towns decreased the hearts increased