DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बलिया  ›  बदलेगी नगर की सूरत, कूड़ा निस्तारण को मिली जमीन

बलियाबदलेगी नगर की सूरत, कूड़ा निस्तारण को मिली जमीन

हिन्दुस्तान टीम,बलियाPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:20 AM
बदलेगी नगर की सूरत, कूड़ा निस्तारण को मिली जमीन

सिकंदरपुर। हिन्दुस्तान संवाद

यदि सबकुछ ठीक ठाक रहा तो जल्द ही नगर की सेहत और सूरत बदली बदली सी नजर आएगी। पिछले तीन साल से कूड़ा डम्पिंग के लिए प्रयासरत नगर पंचायत ने इसके लिए जगह भी तलाश ली है। इस प्रोजेक्ट के शुरू होने के बाद नगर वासियों को जहां कूड़े के दमघोंटू दुर्गंध से मुक्ति मिलेगी वहीं नगर भी स्वच्छ व सुंदर नजर आएगा।

स्वच्छता अभियान के सात साल बीतने के बाद भी नगर पंचायत में कूड़ा डंपिंग प्रोजेक्ट की शुरुआत अभी तक नहीं हो पाई थी। लिहाजा नगर पंचायत द्वारा कूड़े का निस्तारण मोहल्लों के ईद-गिर्द लबे सड़क किया जा रहा था। इसके चलते आसपास के लोगों का जीना दूभर हो गया था, वहीं के संक्रमण का खतरा भी बना रहता है।

कूड़ा निस्तारण की उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण नगर क्षेत्र के विभिन्न मोहल्लों के आसपास महीनों कूड़ा डम्प रहता है। सिकन्दरपुर मनियर मार्ग पर मैनापुर मोड़ के आवासीय इलाके हों या चतुर्भुज नाथ मंदिर के पास का क्षेत्र या फिर नया पोस्ट आफिस (बस स्टैंड) के पास का इलाका। इन जगहों पर कूड़ा डम्प होने से यहां रहने लोंगों के साथ साथ राहगीर भी इसकी सड़ांध से परेशान रहते हैं। इसके लिए स्थानीय लोंगों द्वारा दर्जनों बार आवाज उठाई गई लेकिन समस्या जस की तस बनी रही। नासूर बनती इस समस्या को देखते हुए नगर पंचायत ने पिछले काफी दिनों से जमीन की तलाश में थी। अंतत: उसका प्रयास रंग लाया। यहां से करीब डेढ़ किमी की दूरी पर लिलकर में 1.6 हेक्टेयर भूमि आनन फानन में सीमांकन भी करा दिया। सीमांकन होने के बाद स्थानीय लोंगो को जल्द ही गन्दगी से मुक्ति मिलने की आस जग गयी है।

इस संबंध में ईओ संजय राव ने बताया कि कूड़ा डम्पिंग प्रोजेक्ट के लिए लिलकर में जमीन तलाश ली गयी है। टेंडर भी हो चुका है। उक्त जमीन पर कुछ लोंगों ने अतिक्रमण कर रखा है, जिन्हें बुधवार को बेदखल कर दिया जाएगा।

संबंधित खबरें