DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बलिया › कहीं अनियंत्रित हुई भीड़, कहीं टीका का संकट
बलिया

कहीं अनियंत्रित हुई भीड़, कहीं टीका का संकट

हिन्दुस्तान टीम,बलियाPublished By: Newswrap
Wed, 04 Aug 2021 03:22 AM
शासन के निर्देश पर मंगलवार को जिले में मेगा टीकाकरण अभियान हुआ। जिले में इसके लिए शहर के 15 समेत कुल 127 केन्द्र बनाए गए थे। लोगों में टीका को लेकर...
1 / 2शासन के निर्देश पर मंगलवार को जिले में मेगा टीकाकरण अभियान हुआ। जिले में इसके लिए शहर के 15 समेत कुल 127 केन्द्र बनाए गए थे। लोगों में टीका को लेकर...
शासन के निर्देश पर मंगलवार को जिले में मेगा टीकाकरण अभियान हुआ। जिले में इसके लिए शहर के 15 समेत कुल 127 केन्द्र बनाए गए थे। लोगों में टीका को लेकर...
2 / 2शासन के निर्देश पर मंगलवार को जिले में मेगा टीकाकरण अभियान हुआ। जिले में इसके लिए शहर के 15 समेत कुल 127 केन्द्र बनाए गए थे। लोगों में टीका को लेकर...

बलिया। हिन्दुस्तान टीम

शासन के निर्देश पर मंगलवार को जिले में मेगा टीकाकरण अभियान हुआ। जिले में इसके लिए शहर के 15 समेत कुल 127 केन्द्र बनाए गए थे। लोगों में टीका को लेकर जागरूकता व अन्य तमाम कारणों से वैक्सीन के लिए भीड़ खूब जुट रही है। मंगलवार को इसका नजारा भी देखने को मिला। कई केन्द्रों पर भीड़ अनियंत्रित हो गयी, जिसे काबू में करने के लिए पुलिस बुलानी पड़ी। वहीं कई केन्द्रों पर दोपहर में ही वैक्सीन खत्म हो गयी। कहीं-कहीं धक्का-मुक्की आदि के चलते वैक्सीनेशन रोकने की भी नौबत आयी। ‘हिन्दुस्तान ने पांच स्थान-पांच रिपोर्टर अभियान के तहत केन्द्रों की पड़ताल की।

बेकाबू भीड़ को पुलिस ने किया नियंत्रित

सुखपुरा। बेरूआरबारी ब्लॉक मुख्यालय स्थित पीएचसी पर वैक्सीन लगवाने के लिए मंगलवार को उमड़ी भारी भीड़ को काबू करने में प्रशासन के भी पसीने छूट गए। केंद्र पर मात्र 800 टीके ही उपलब्ध थे, जबकि मेगा टीकाकरण अभियान की सूचना से हजारों लोग पहुंच गए थे। बेरुआरबारी क्षेत्र के विभिन्न गांवों के साथ ही अगल-बगल के दूसरे ब्लॉक के लोग भी उमड़ पड़े। देखते ही देखते हजारों लोग स्वास्थ्य केंद्र परिसर में जमा हो गए। आलम यह था कि स्वास्थ्य केंद्र परिसर में पैर रखने की भी जगह नहीं थी। स्वास्थ्य केंद्र परिसर में चार पहिया वाहनों का आना असंभव हो गया था। स्वास्थ्य केंद्र तक आने का मुख्य मार्ग बाइक व साइकिल से जाम हो गया था, जिससे मरीजों को काफी परेशानी हुई। प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ सिद्धि रंजन ने बताया कि भीड़ का अंदेशा पहले से ही था। इसे ध्यान में रखते हुए पहले ही एसडीएम बांसडीह व एसओ सुखपुरा को पत्र लिखा गया था।

ऊंट के मुंह में जीरा साबित हुई वैक्सीन

बैरिया। सीएचसी सोनबरसा में मंगलवार को 45 प्लस के साथ ही 18 प्लस के युवाओं को कोरोना की वैक्सीन लगाई गई। हालांकि भीड़ के सापेक्ष डोज काफी कम मिला था। सीएचसी अधीक्षक डा. आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि मंगलवार को 500 डोज वैक्सीन मिली थी। दोनों आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही थी। एक बजे तक 150 लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी थी। मेगा अभियान को देखते हुए सुबह 8 बजे से ही कोरोना वैक्सीन लेने वाले लोगों की लम्बी कतार लग गई थी। कोरोना वैक्सीन लेने वाले लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। इस दौरान कोविड प्रोटोकाल का भी उल्लंघन होता दिखा। न तो किसी के चेहरे पर मास्क नजर आया और न ही सोशल डिस्टेंसिंग ही थी।

भीड़ संभालने में कर्मचारियों के छूटे पसीने

सिकन्दरपुर। मेगा टीकाकरण अभियान के तहत मंगलवार को तहसील क्षेत्र के पंदह व नवानगर ब्लॉक में कुल 32 अलग अलग स्थानों पर कैम्प लगाया गया। टीकाकरण के लिए काफी संख्या में लोगों की भीड़ जमा हो गयी। जिसे संभालने में स्वास्थ्य कर्मियों के पसीने छूट गए। दोपहर दो बजे तक नवानगर ब्लाक के विभिन्न केंद्रों पर कुल दो हजार डोज के सापेक्ष 1400 लोगों को टीका लग चुका था। वहीं पंदह ब्लॉक में कुल 1900 डोज के मुकाबले 1103 लोगों का टीकाकरण किया गया था। उधर, कठौड़ा में भीड़ अधिक होने की वजह से लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। आरोप था कि पंजीकरण में घालमेल किया जा रहा है।

कर्मचारियों से दुर्व्यवहार, बंद करना पड़ा टीकाकरण

रसड़ा। मेगा टीकाकरण अभियान के तहत मंगलवार को ब्लाक में आठ केंद्रों पर 45 प्लस के साथ ही 18 प्लस के युवक-युवतियों को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए कई केंद्रों पर भारी संख्या में भीड़ लगी रही। तीन बजे तक सभी केंद्रों पर कुल 1396 लोगों को पहली व दूसरी डोज दी गई। इसमें 18 प्लस के 742 व 45 प्लस के 654 को टीका लगाया जा चुका था। सबसे अधिक भीड़ प्रावि मीरनगंज पर थी। यहां पर रजिस्ट्रेशन के बाद बिना स्लॉट बुक किए ही टीका लगवाने की व्यवस्था विभाग की ओर से की गई थी। इस दौरान भीड़ में पहले टीका लगाने को लेकर लोगों ने हंगामा कर दिया। कर्मचारियों का कहना था कि उनके साथ अपशब्दों का प्रयोग होने के चलते दो बार 112 की पुलिस को बुलाना पड़ा। बवाल होने की डर से टीकाकरण बंद कर दिया गया। इससे लोगों को वापस लौटना पड़ा। बीपीएम मिथिलेश गिरि ने बताया कि रसड़ा ब्लाक में दो हजार टीकाकरण का लक्ष्य था। मीरनगंज केंद्र पर भीड़ द्वारा कर्मचारियों के साथ गाली-गलौज को लेकर टीकाकरण दोपहर में बंद कर दिया गया है। जबकि अन्य केंद्रों पर शांति के साथ टीकाकरण चल रहा था। यहां पर पर्याप्त पुलिस फोर्स की व्यवस्था नहीं रही।

एक बजे ही खत्म हुई वैक्सीन, बैरंग लौटे लोग

रतसर। स्थानीय सीएचसी पर मंगलवार को वैक्सीन के लिए सुबह से ही कतार में लगे थे जो दिन के दो बजे तक चला। भीड़ के चलते सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ती नजर आयी। मेगा अभियान को देखते हुए बड़ी संख्या में लोग कड़ाके की धूप में भी कतार में खड़े रहे। दोपहर बाद एक बजे वैक्सीन ख हो जाने के चलते तमाम लोगों को घंटों इंतजार के बाद भी वापस जाना पड़ा। अधिक परेशानी दूर-दराज से आने वाले लोगों को हुई। दूसरे शहर जाने वाले लोग टीका नहीं लग जाने के चलते जा नहीं पा रहे हैं।

संबंधित खबरें