DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बलिया  ›  गोदाम पर नियुक्त ठेकेदार को ब्लैकलिस्टेड करने का आदेश

बलियागोदाम पर नियुक्त ठेकेदार को ब्लैकलिस्टेड करने का आदेश

हिन्दुस्तान टीम,बलियाPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:12 AM
गोदाम पर नियुक्त ठेकेदार को ब्लैकलिस्टेड करने का आदेश

बलिया। वरिष्ठ संवाददाता

जनपद के राज्य भंडारण गृह (एसडब्ल्यूसी) पर नियुक्त ठेकेदार के खिलाफ अवैध वसूली की शिकायत सही मिलने पर डीएम अदिति सिंह ने ठेकेदार को काली सूची में डालने के साथ ही उसके खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही करने का निर्देश दिया है। उन्होंने इस सम्बंध में क्षेत्रीय प्रबंधक (केन्द्रीय भंडारण निगम) व क्षेत्रीय प्रबंधक (एसडब्ल्यू सी) को पत्र लिखा है।

डीएम ने लिखा है कि रबी विपणन वर्ष 2021-22 के तहत जिले में क्रय गेहूं का भंडारण भारतीय खाद्य निगम के सीडब्ल्यूसी तिखमपुर, पीईजी सिंहाचवर तथा एसडब्ल्यूसी चितबड़ागांव में किया जा रहा है। शिकायत मिली कि चितबड़ागांव के गोदाम पर हैंडलिंग व परिवहन के लिए नियुक्त ठेकेदार शिवजी चौधरी (गिल्लू चौधरी) द्वारा अवैध वसूली की जा रही है। उक्त ठेकेदार द्वारा प्रति बोरे पर दो रुपये तथा डाला आदि के नाम पर दो सौ से पांच सौ रुपये तक की मांग की जा रही है। इस सम्बंध में एसडीएम सदर द्वारा जांच करायी गयी। जांच में उक्त शिकायत सही पायी गयी। डीएम ने लिखा है कि यह स्थिति बेहद खेदजनक, शासन की मंशा के विपरीत व अनुबंधकीय शर्तों के विपरीत है। ठेकेदार की अवैध वसूली के चलते शासन की शीर्ष प्राथमिकता प्राप्त मूल्य समर्थन योजना के तहत क्रय गेहूं का भंडारण में प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। डीएम ने सीडब्ल्यूसी व एसडब्ल्यूसी के क्षेत्रीय प्रबंधकों को निर्देशित किया है कि उक्त ठेकेदार को काली सूची में डालकर दंडात्मक कार्यवाही करते हुए अवगत कराना सुनिश्चित करें।

मजदूर के बयान का वीडियो क्लिप बना आधार

सूत्रों की मानें तो अपनी जांच के दौरान एसडीएम ने स्टेट वेयरहाउस चितबड़ागांव में कार्यरत मजदूरों से हैंडलिंग व परिवहन ठेकेदार के खिलाफ शिकायत के सम्बंध में गोपनीय जांच की। वेयरहाउस पर कार्यरत एक मजदूर का वीडियो क्लिप लिया गया। इसमें वह कह रहा है कि ठेकेदार द्वारा यह निर्देश मिले हैं कि मंडी व पीसीएफ से आने वाली गाड़ियों से प्रति गाड़ी एक हजार रुपये लिया जाय। यही नहीं, एक लिस्ट भी दिखायी गयी, जिसमें उन गाड़ियों का विवरण है, जिनसे अनुचित धनराशि की वसूली की गयी है। उक्त वीडियो क्लिप में मजदूर द्वारा मजदूरी नहीं मिलने की बात भी की जा रही है।

संबंधित खबरें