DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चंद्रमा को अर्घ्य अर्पित कर माताओं ने किया फलाहार

चंद्रमा को अर्घ्य अर्पित कर माताओं ने किया फलाहार

1 / 2पुत्र प्राप्ति व समृद्धि के लिए महिलाओं ने सोमवार को गणेश चौथ का व्रत रखा। पूरे दिन निराहार रहने के बाद शाम को पवित्र नदियों में स्नान के बाद घर काष्ठ के आसन पर गौरी-गणेश की प्रतिमा रखकर पूजन-अर्चन...

चंद्रमा को अर्घ्य अर्पित कर माताओं ने किया फलाहार

2 / 2पुत्र प्राप्ति व समृद्धि के लिए महिलाओं ने सोमवार को गणेश चौथ का व्रत रखा। पूरे दिन निराहार रहने के बाद शाम को पवित्र नदियों में स्नान के बाद घर काष्ठ के आसन पर गौरी-गणेश की प्रतिमा रखकर पूजन-अर्चन...

PreviousNext

पुत्र प्राप्ति व समृद्धि के लिए महिलाओं ने सोमवार को गणेश चौथ का व्रत रखा। पूरे दिन निराहार रहने के बाद शाम को पवित्र नदियों में स्नान के बाद घर काष्ठ के आसन पर गौरी-गणेश की प्रतिमा रखकर पूजन-अर्चन किया। कुछ महिलाओं ने स्वयं कुछेक ने मंदिरों पर पहुंचकर पुरोहितों से कथा श्रवण किया। चंद्रोदय होने पर अर्घ्य अर्पित कर फलाहार किया। दूसरी ओर, कुंवारी कन्याओं ने भाइयों की मंगल कामना के लिए बहुला का व्रत रखा।

शाम को शहर के बालेश्वर मंदिर, भृगु मंदिर, मुक्तेश्वर महादेव मंदिर सहित सभी मंदिरों पर चौथ व्रत रखी महिलाओं की भीड़ पूजन-अर्चन को उमड़ पड़ी। सभी ने विधि-विधान से पूजन-अर्चन कर अपने व परिवार के कुशलता की मन्नते मांगी। अर्ध्य अर्पित करने के बाद घर में बने पाकवान व ऋतु फल चढ़ाकर फलाहार कीं।

दूसरी ओर कुंवारी कन्याओं ने सोमवार को बहुला का व्रत रखा। पूरे दिन व्रत रखने के बाद शाम में पुरोहित से कथा श्रवण कर सत्तू का पारण किया। इस दौरान पुरोहितों को दान-दक्षिणा देने के साथ विदा हुईं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mothers offering arghya to the moon