DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

होमियोपैथ व आयुर्वेद चिकित्सा की सुधरेगी सेहत!

अबतक उपेक्षित रही आयुर्वेद व होमियोपैथ चिकित्सा की सेहत सुधारने के लिए डीएम सुरेन्द्र विक्रम ने 'रोडमैप' तैयार किया है। प्लान के मुताबिक जिला अस्पताल परिसर में ही सीएमओ के कमरे के बगल में ही होमियोपैथ के अधिकारी के बैठने की व्यवस्था होगी तथा पास के ही ही कमरे में ओपीडी चलायी जायेगी। ताकि अस्पताल आने वाले अधिक से अधिक मरीज इस चिकित्सा का लाभ ले सकें। सब कुछ ठीक रहा तो अगले कुछ दिनों में यह सुविधा शुरू हो जायेगी। लम्बे समय से बदहाल रही आयुर्वेदिक व होमियोपैथ चिकित्सा को बेहतर बनाने के प्रयास तेज हो गये हैं। डीएम के मुताबिक आयुर्वेदिक अस्पताल में भी काफी बेहतर इलाज लोगों को मिल सकता है। अफसोस जताया कि अब तक इन चिकित्सा पद्धति पर किसी का ध्यान नहीं गया। प्रयास है कि लोगों को आयुर्वेद या होमियोपैथ की सुविधा बेहतर तरीके से उपलब्ध करायी जाय। बताया कि वर्तमान में सबका ध्यान एलोपैथ चिकित्सा की तरफ है। ऐसे में अस्पतालों में काफी भीड़ देखने को मिलती है, जबकि डॉक्टरों की कमी भी लगभग हर अस्पताल में है। सोच है कि यदि जिला अस्पताल में आयुर्वेद व होमियोपैथ डॉक्टर भी उपलब्ध रहें तो काफी लोग इस पुरानी पद्धति की चिकित्सा व्यवस्था से अपना इलाज करा सकेंगे। इससे अस्पतालों का लोड भी कम होगा और लोगों को बिना किसी साइड इफेक्ट वाला इलाज भी मिल सकेगा। उल्लेखनीय है कि जिले में एक आयुर्वेदिक अस्पताल तो है लेकिन लगभग मृत अवस्था में ही है। जागरूकता की कमी कहें या सिस्टम का दोष, वहां की खराब चिकित्सा व्यवस्था के कारण मरीज कम ही आते हैं। शासन-प्रशासन का ध्यान भी इसकी ओर कम ही रहता है। किसी जिम्मेदारी अधिकारी का ध्यान भी उस तरफ नहीं जाता था। अब नवागत डीएम ने जिस तरह आयुर्वेद व होमियोपैथ चिकित्सा की बेहतरी पर ध्यान दिया है, इसे इस चिकित्सा के दिन बहुरने की उम्मीद जगी है। आयुर्वेद-होमियोपैथ के प्रति जागरूकता की जरूरत आयुर्वेदिक, होमियोपैथिक व युनानी चिकित्सा अस्पतालों के बारे में अधिकांश लोगों को जानकारी तक नहीं है। शायद इसी जागरूकता के अभाव में भी एलोपैथ अस्पतालों पर भीड़ भी बढ़ रही है जबकि आयुर्वेदिक व होमियोपैथ के अस्पताल मरीज की बाट खोज रहे हैं। किसी प्रशासनिक या स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी का भी ध्यान उस तरफ कभी नहीं गया। जरूरत है इन अस्पतालों पर बेहतर व्यवस्था कर ज्यादा से ज्यादा प्रचार-प्रसार किया जाए, ताकि लोग इन अस्पतालों पर आकर साइड इफेक्ट मुक्त इलाज करा सकें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Homeopath and Ayurveda medicine improve health!