DA Image
2 अगस्त, 2020|11:40|IST

अगली स्टोरी

लाल निशान से 81 सेमी ऊपर बह रही घाघरा नदी.

लाल निशान से 81 सेमी ऊपर बह रही घाघरा नदी.

पिछले एक पखवारा से घाघरा के जलस्तर में उतार चढ़ाव के बीच रविवार को नदी एक बार फिर उफान पर है। नदी के बढ़ते जलस्तर ने तटवर्ती लोगों की नींद उड़ा दी है। नदी के खतरे के निशान से ऊपर बहने से दर्जनों गांव के निवासियों में खलबली मच गयी है।

बता दें कि घाघरा के तटवर्ती गांव तुर्तीपार नदी के पानी से तीन तरफ से घिर गया है। नदी की धारा अब चैनपुर गुलौरा के कब्रिस्तान की ओर बढ़ने लगी है। नदी के बढ़ते जलस्तर से टंगुनिया राजभर बस्ती, चैनपुर गुलौरा, खैराखास, मुजौना, साहियां, बिल्थरा बाजार, हल्दीरामपुर आदि दर्जनों बस्तियों में चौतरफा नदी का पानी फैल गया है।

केंद्रीय जल आयोग के रिपोर्ट के अनुसार रविवार की शाम चार बजे नदी का जलस्तर 64.820 मीटर दर्ज किया गया। यहां खतरे का निशान 64.010 है। नदी खतरे के निशान से 81 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है। आयोग ने अगले 24 घंटों में नदी की धारा में एक-एक सेंटीमीटर बढ़ोतरी की संभावना व्यक्त की है। एसडीएम अशोक चौधरी ने बताया कि बाढ़ को लेकर प्रशासन सक्रिय है। नदी के स्थिति पर हर पल निगरानी की जा रही है। तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ चौकियां स्थापित कर कर्मचारियों की तैनाती कर दी गई है। बाढ़ के संभावित खतरे से निपटने के लिए प्रशासनिक अमला पूरी तरह मुस्तैद है।

उफनाती नदी के वेग से किसान व पशुपालक परेशान

बिल्थरारोड। घाघरा नदी के जलस्तर में बढ़ोत्तरी से सबसे ज्यादा दिक्कत किसानों को अपनी फसल को लेकर है। वहीं पशुपालकों को अपने पशुओं के चारा को लेकर कठिनाई झेलनी पड़ रही है। बताा जाता है कि हाहानाला, तुर्तीपार, हल्दीरामपुर रेगुलेटरों पर पानी का दबाव बढ़ गया है। वहीं कोइली मुहान ताल से लगे क्षेत्र में लगी किसानों फसल पानी में डूबकर बर्बाद हो रही है। इसे देख किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें उभरनी शुरू हो गयी है। उनका कहना है कि महंगे दाम पर बीज, खाद डालने के साथ ही जुताई रोपाई करायी गयी, जिसे नदी बर्बाद कर रही है।

इन तटवर्ती गांवों में कटान जारी

बिल्थरारोड। घाघरा नदी के उफान पर होने से क्षेत्र के दर्जनों तटवर्ती गांवों में कटान शुरू हो गया है। स्थिति को देखते हुए इन गांवों के वाशिंदे पलायन करने की तैयारी में हैं। बता दें कि क्षेत्र के चैनपुर गुलौरा-मठिया, खैरा, तुर्तीपार, मुजौना, मधुबनी, सहियां, हल्दी रामपुर क्षेत्रों में नदी की कैंची चलाती लहरें उपजाऊ भूमि को निगलना शुरू कर दी है। बाढ़ की आशंका को लेकर लोग दहशत में रतजगा कर रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ghaghra river flowing 81 cm above red mark