DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बलिया › काली पट्टी बांधकर कर्मचारियों ने जताया विरोध
बलिया

काली पट्टी बांधकर कर्मचारियों ने जताया विरोध

हिन्दुस्तान टीम,बलियाPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 10:00 PM
काली पट्टी बांधकर कर्मचारियों ने जताया विरोध

बलिया। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद की ओर से मंगलवार को काली पट्टी बांधकर विरोध जताया गया। स्थाई, संविदा व आउटसोर्सिंग के जरिये कार्यरत कर्मचारी उक्त आंदोलन में शामिल हुए। वक्ताओं ने कहा कि सरकार कर्मचारियों के बीच फूट डालने के लिये नया शासनादेश जारी किया है। कहा कि शासनादेश को संसोधित करते हुए सभी कर्मचारियों को 25 प्रतिशत प्रोत्साहन राशि उपलब्ध कराया जाय। इस मौके पर अरुण सिंह, हेमवंत सिंह, अवधेश सिंह, योगेंद्र पांडेय, किरन सिंह, आरबी यादव, अजंनी राय, बब्बन यादव, प्रवीण त्रिपाठी, रेनू श्रीवास्तव, सुभावती यादव, संदीप केशरी, पीयुष पांडेय, वंदना सिंह, पुष्पा सिंह, जेपी राय, सतीश, विश्राम, अजय, पुष्पा, हरियानंद, शशिभूषण, गोपाल, शम्भू यादव, बृजेश सिंह, दिलीप आदि थे।

रसड़ा हिसं के अनुसार कोविड कार्यो में लगे कर्मचारियों को 25 प्रतिशत प्रोत्साहन राशि को लेकर कर्मचारियों ने विरोध जताया। स्थानीय सीएचसी पर मंगलवार को कर्मचारियों ने नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। डीपीआरए के जिलाध्यक्ष अनिल राय व डीपीए के वरिष्ठ उपाध्यक्ष शैलेश सिंह के नेतृत्व में सभी फार्मेसिस्ट व अन्य पैरामेडिकल स्टाफ ने काली पट्टी बांधकर विरोध प्रर्दशन किया। फार्मासिस्टों का कहना है कि सबसे अधिक खतरा अस्पतालों में ड्यूटी कर रहे कर्मचारियों को है। कोविड अथवा नानकोविड ड्यूटी में लगे समस्त कर्मियों को समान रूप से प्रोत्साहन राशि दिये जाने व कोविड संक्रमण से मृत समस्त चिकित्सा कर्मियों को जल्द से जल्द अनुकम्पा राशि उनके आश्रितों को अनुमन्य कराने की शासन से मांग की गई। इस मौके पर पंकज राज, फिरोज अहमद, सोहन यादव, ओमप्रकाश यादव, रामतीर्थ, अशोक राव आदि थे।

संबंधित खबरें