DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पग-पग में आस्था, कण-कण में महादेव

एक दिन पहले यानि रविवार की सुबह से देर रात तक बिना थमे जब बारिश होती रही तो डर सताने लगा था कि सावन की पहली सोमवारी पर भक्तों की राह मुश्किल भरी होगी। लेकिन महादेव के दीवानों के कदम जब आस्था की राह पर आगे बढ़े तो कुछ देर के लिए इंद्रदेव भी थम से गए। हर-हर-महादेव और ओम नम: शिवाय का उद्घोष करते हुए श्रद्धालु भोर के तीन बजे से ही बाबा बालेश्वर नाथ मंदिर में पहुंचने शुरू हुए तो समय बढ़ने के साथ कतार भी लम्बी होती गयी। दोपहर 12 बजे तक मंदिर के सामने के सभी रास्ते श्रद्धालुओं से ही अटे पड़े थे। इसके अलावा कामेश्वर धाम कारो, सैदनाथ मंदिर, छितेश्वर नाथ मंदिर छितौनी समेत तमाम शिवालयों में पूरे दिन भगवान शिव के जलाभिषेक का दौर चलता रहा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crowd of devotees in Shiva temples of Balia