DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसपी के हस्तक्षेप पर बना चरित्र प्रमाण पत्र

सरकार भले ही प्रदेश को रिश्वतखोरी व भ्रष्टाचार से मुक्ति का दावा कर रही हो लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। थानों पर दशकों से चल रही रिश्वतखोरी आज भी जारी है। 
ताजा मामला क्षेत्र के गांव भलुही गांव के सचिन पोले का है। नौकरी ज्वाइन करने के लिए उसे चरित्र प्रमाण पत्र की आवश्यकता थी। उसका आवेदन 14 अगस्त को ही एसपी कार्यालय से सुखपुरा थाने आ गया था। पूरे अगस्त युवक व उसके पिता थाने का चक्कर लगाते रह गये लेकिन उसके आवेदन पर रिपोर्ट नहीं लगायी गई। इसी बीच उसकी ज्वाइनिंग की अंतिम तारीख काफी नजदीक आ गयी। युवक ने पुलिस अधीक्षक के यहां दस्तक दी तब जाकर उसका आवेदन नौकरी ज्वाइन करने की अंतिम तिथि के एक दिन पहले एसपी कार्यालय पहुंचा। एसपी कार्यालय के कर्मचारियों ने युवक की परेशानी को ध्यान में रखकर उसी दिन देर शाम को उसका चरित्र प्रमाण पत्र बनाकर दे दिया। तब जाकर वह अगले दिन लखनऊ पहुंच सका।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Character certificate on SP interference