ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश बलियाबदली जीवनशैली से बढ़ रहे सर्वाइकल के रोगी

बदली जीवनशैली से बढ़ रहे सर्वाइकल के रोगी

बलिया, संवाददाता। भौतिक साधनों के असीमित प्रयोग, आहार-विहार की अनियमितता के साथ...

बदली जीवनशैली से बढ़ रहे सर्वाइकल के रोगी
हिन्दुस्तान टीम,बलियाTue, 14 May 2024 05:30 PM
ऐप पर पढ़ें

बलिया, संवाददाता।
भौतिक साधनों के असीमित प्रयोग, आहार-विहार की अनियमितता के साथ ही बदले लाइफ स्टाइल से सर्वाइकल व जोड़ों के दर्द की मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। फीजियोथेरेपी क्लीनिक व इससे जुड़े चिकित्सकों के यहां ऐसे मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इस बीमारी से राहत के लिए आयुर्वेद विभाग में भी कारगर इलाज है। रहते उपचार कराने पर इन बीमारियों से स्थायी समाधान मिल सकता है।

नगर स्थित आयुर्वेद चिकित्सालय के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. सुभाष यादव के अनुसार, वैश्विक महामारी कोरोना के बाद से लोगों की रूचि आयुर्वेद चिकित्सा के प्रति बढ़ रही है। बताया कि जीवनशैली में परिवर्तन, प्राकृतिक चिकित्सा और आहार पर ध्यान देने के साथ ही नियमित औषधियों के सेवन से सर्वाइकल व जोड़ों के दर्द के साथ ही अन्य गंभीर रोग से स्थाई समाधान मिल सकता है।

डॉ. यादव ने बताया कि स्पॉन्डिलाइटिस की समस्या को आयुर्वेद में ‘ग्रीवासंधिगत वात कहा जाता है। इस बीमारी में गर्दन में दर्द, अकड़न, हाथ के ऊपरी हिस्से में दर्द, कंधे दर्द के अलावा नसों आदि में दर्द होता है। बताया कि सर्वाइकल की समस्या का स्थायी समाधान आयुर्वेद पद्धति से उपचार से दूर किया जा सकता है। औषधियों का नियमित सेवन, विशेषज्ञ के परामर्श से आहार, योग-प्राणायाम, व्यायाम, दवाओं के प्रयोग से निश्चित ही राहत मिलेगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।