DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बलियाः कश्मीर में शहीद सैनिक की अंतिम यात्रा रोककर प्रदर्शन, चक्काजाम, VIDEO

कश्मीर के राजौरी में शहीद हुए जवान का पार्थिव शरीर करीब एक घंटे तक टीडी कॉलेज चौराहे पर रखकर ग्रामीणों ने जाम लगा दिया। उनका आरोप था कि सैनिक के निधन के बाद पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी गांव नहीं पहुंचे थे। 

सुखपुरा थाना क्षेत्र के बसंतपुर निवासी 37 वर्षीय सत्यदेव मिश्र  सेना के 87 लाइट रेजिमेंट में हवलदार के पद पर तैनात थे। करीब दो साल से उनकी पोस्टिंग लेह लद्दाख के दुर्गम व संवेदनशील राजौरी में थी। परिजनों के अनुसार सोमवार को सेना के अधिकारियों ने फोन कर बताया कि ड्रील के दौरान उनके सीने में तेज दर्द हुआ, जिसके बाद अस्पताल ले जाया गया, जहां उनका निधन हो गया। इसकी जानकारी सेना की ओर से परिजनों को मिलते ही कोहराम मच गया। सत्यदेव का पार्थिव शरीर मंगलवार की रात बसंतपुर पहुंचा। बुधवार की सुबह गांव-घर के लोग अंतिम संस्कार करने महावीर घाट जा रहे थे। 

इसी बीच शहर के टीडी कॉलेज चौराहा पर ग्रामीणों ने शव को रोककर सड़क जाम कर दिया। लोगों का कहना था कि फौजी के निधन की सूचना मिलने के बाद भी पुलिस व प्रशासनिक अफसर हालचाल लेने सैनिक के घर पर नहीं पहुंचे। सड़क जाम होने से ट्रैफिक व्यवस्था अस्त-व्यस्त हो गयी तथा टीडी कॉलेज चौराहा व कुंवर सिंह चौराहा के बीच वाहनों की लम्बी लाइन लग गयी।

मामले की जानकारी होने के बाद पहुंचे एसडीएम सदर अश्वनी कुमार श्रीवास्तव, सीओ सिटी अरुण कुमार सिंह व कोतवाल विपिन कुमार सिंह ने लोगों से बातचीत की जिसके बाद जाम समाप्त हो गया। इसके बाद काफिला महावीर घाट की ओर चल पड़ा। सैनिक का अंतिम संस्कार गंगा नदी के तट पर किया गया। मुखाग्नि पुत्र आदित्य ने दी।

वहीं एसडीएम सदर अश्वनी कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि फौजी सत्यदेव मिश्र के निधन की कोई लिखित सूचना जिला प्रशासन को नहीं मिली थी। इसके बावजूद एसओ व लेखपाल आदि उनके घर पर गये थे। फौजी के परिवार के प्रति हम सभी की पूरी संवेदना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ballia The mortal remains of a martyred soldier on the road in Kashmir