DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बहराइच  ›  बहराइच-मिथाइल अल्कोहल पर निगहबानी को नोडल टीम गठित
बहराइच

बहराइच-मिथाइल अल्कोहल पर निगहबानी को नोडल टीम गठित

हिन्दुस्तान टीम,बहराइचPublished By: Newswrap
Sat, 19 Jun 2021 03:00 AM
बहराइच-मिथाइल अल्कोहल पर निगहबानी को नोडल टीम गठित

बहराइच। संवाददाता

मिथाइल अल्कोहल पर निगहबानी के लिए डीएम ने अपर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में नोडल समिति गठित की है। जिसमें एएसपी व जिला आबकारी अधिकारी की टीम गहन निगहबानी रखेगी। डीएम के निर्देशों पर संयुक्त टीम की ओर से आकस्मिक निरीक्षण का अभियान चलाया जा रहा है। तहसील स्तर पर अधिकारियों को विभिन्न बिंदुओं पर टिप्स दी गई है। अभियान चलाकर लगातार गड़बड़ी पाए जाने पर कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। अलीगढ़ में शराब से हुई मौतों पर जिला प्रशासन ने सख्त कदम उठाए हैं।

डीएम डॉ. दिनेश चन्द्र के निर्देश पर 13 जून को इस सम्बंध में बैठक हुई थी, जिसमें विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई थी। इसके बाद एडीएम जय चंद्र पांडेय ने हिदायत दी है कि मिथाइल अल्कोहल से सम्बंधित सूबे की प्वायजन्स, रेगुलेशन आफ पजेशन एंड सेल, नियमावली, 1921 यथा संसोधित नियमावली, 1994 नियमावली 2014 के प्रावधानों पर ध्यान दिया जाए। मिथाइल अल्कोहल नामक विष पर निगहबानी को उसके क्रय व विक्रय को विनमित करने के लिए लाइसेंस प्राधिकारी की ओर से जारी लाइसेंस धारकों का सतत निरीक्षण होना चाहिए। जिसके लिए तहसीलदार, सम्बन्धित पुलिस निरीक्षक, मेडिकल अफसर, उद्योग निरीक्षक की सयुंक्त टीम गठित कर ली जाए। एडीएम ने सचेत किया कि मिथाइल अल्कोहल का उत्पादन करने वाली लाइसेंसधारक इकाइयों के अलावा यदि कोई अवैध तरीके से मिथाइल अल्कोहल उत्पादनकर्ता मिले, तो तत्काल कार्रवाई की जाए। जिला आबकारी अधिकारी प्रगल्भ लवानिया ने बताया कि जिले में मिथाइल अल्कोहल का कोई फुटकर या थोक विक्रेता नहीं है।

अल्कोहल यातायात साधनों पर नजर रखने के निर्देश

एडीएम ने कहा कि मिथाइल अल्कोहल के निर्माण व भंडारण के बर्तन पर प्वायजन्स के नियम कानूनी चेतावनी लिखी जानी चाहिए। मिथाइल अल्कोहल परिवहन करने वाले टैंकरों पर भी कानूनी चेतावनी अंकित होनी चाहिए। इन टैंकरों से किसी भी दशा में इथाइल अल्कोहल का परिवहन नहीं किया जाए। इन टैंकरों पर विष का लोगो अवश्य लगा हो। अल्कोहल की निकासी से पूर्व सील व चेतावनी होनी चाहिए। इस पर गहन निगरानी रहनी चाहिए कि इन इकाइयों की ओर से अवैध शराब बनाने वालों को बेचा तो नहीं जा रहा है।

नियमित चेंकिग व कठोर धाराओं में दर्ज हों केस

एडीएम ने यह भी निर्देश दिए हैं कि मिथाइल अल्कोहल व थिनर बिना लाइसेंस बनाने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाए। सयुंक्त टीम पेंट, थिनर दुकानों, अवैध रूप से सेनेटाइजर बनाने वाली फैक्ट्रियों, ट्रांसपोर्टरों की सघन चेकिंग की जाए। इसके अलावा ड्रग व आबकारी विभाग मेडिकल व सर्जिकल स्टोरों की आकस्मिक गहन जांच करें। एफआईआर में दर्ज मुख्य आरोपियों के नाम चार्जशीट में गलत तरीके से हटे हों, तो पुनरीक्षण की कार्रवाई करें। अपमिश्रण की शराब मामले में आबकारी अधिनियम के अलावा अपमिश्रण अधिनियम व गैंगस्टर एक्ट लगाए जाएं।

संबंधित खबरें