DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बहराइच › उद्घाटन से पहले ही उधड़ा बॉक्सिंग रिंग का प्लाईबुड
बहराइच

उद्घाटन से पहले ही उधड़ा बॉक्सिंग रिंग का प्लाईबुड

हिन्दुस्तान टीम,बहराइचPublished By: Newswrap
Tue, 03 Aug 2021 03:01 AM
उद्घाटन से पहले ही उधड़ा बॉक्सिंग रिंग का प्लाईबुड

बहराइच। संवाददाता

इन्दिरा गांधी स्पोर्ट स्टेडियम बहराइच में मानकों की अनदेखी कर बॉक्सिंग रिंग बना दी गई थी। एक तो बनाने में काफी लंबा समय लगा, वहीं बनने के बाद उद्घाटन के पहले ही प्लाईवुड सड़कर उजड़ने लगा है। इसका टेण्डर भी नहीं हुआ है। बॉक्सिंग खिलाड़ियों का कहना है कि मानक के अनुसार रिंग न बनने से मैच होने पर खिलाड़ियों पर खतरा उत्पन्न हो सकता है।

प्रदेश के अति पिछड़े आकांक्षात्मक जिलों पर केन्द्र व प्रदेश सरकारों की सीधे नजर है। इन जिलों को बेहतर बनाने के लिए सरकारें लगातार प्रयास कर रही हैं और ऐसा हो भी रहा है। पिछले दिनों बहराइच के कई खिलाड़ियों ने बॉक्सिंग में राष्ट्रीय लेबल पर बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए कई मेडल हासिल किए थे, जिस पर देवीपाटन मण्डल के बहराइच जिले में खेल निदेशालय ने बॉक्सिंग रिंग दिया था कि आने वाले समय में बहराइच के खिलाड़ी अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पताका फहराएंगे।

इसे देखते हुए शासन स्तर से सत्र 2019-20 में चार लाख 15 हजार रुपए का बजट आया था। जिसे लखनऊ की एक फर्म को भुगतान कर दिया गया। इसे ज्यादा से ज्यादा एक महीने में बना देना चाहिए, लेकिन यह रिंग नवम्बर 2020 में बनकर तैयार हुई। स्टेडियम के खिलाड़ी अटल सिंह ने आरोप लगाया कि बिना टेण्डर के लखनऊ की एक ग्रेस नामक फर्म को कार्य दिया गया।

उन्होंने कहा कि इन्दिरा गांधी स्पोट्र्स स्टेडियम बहराइच में मानकों की अनदेखी कर बॉक्सिंग रिंग बना दी गई। नियम है कि पहले खेल निदेशालय के मानकों के अनुसार टेण्डर हो, लकड़ी, लोहा, पेंट आदि सामान खरीदा जाय, इसके बाद भुगतान किया जाए, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। यहां भुगतान पहले हो गया और रिंग लगभग आठ महीने बाद बनवाई गई है।

बनने में लगा दिये आठ महीने

बहराइच। खिलाड़ी अटल सिंह ने बताया कि खेल विभाग ने सालवुड से रिंग बनाने के लिए कहा था, जिसे प्लाईवुड से बना दिया गया। इसका अभी तक उद्घाटन भी नहीं हो पाया, और आठ महीने बाद पहली बारिश में ही प्लाई सड़ गई। यही नहीं रस्सी व लोहा भी दोयम दर्जे का लगा दिया गया है।

मानकों की पूरी तरह अनदेखी हुई है

बहराइच। बॉक्सिंग खिलाड़ी रोहित सिंह, प्रशान्त, संजीव आदि ने कहा कि रिंग में तमाम और भी कमियां हैं। जिनकी अनदेखी गई है। केन्द्र व प्रदेश सरकार खिलाड़ियों को आगे बढ़ाने के लिए बड़ा प्रयास कर रही है, लेकिन यहां खेल ढांचा विकसित करने में अंतरराष्ट्रीय मानकों की पूरी तरह अनदेखी हुई है। बहराइच में बनी बॉक्सिंग रिंग इसका ताजा उदाहरण है, जिसके निर्माण में मानकों की पूरी तरह अनदेखी की गई है।

बॉक्सिंग रिंग बनने के यह हैं मानक

खेलने वाला प्लेटफॉम सॉलवुड (साखू) का बनना चाहिए।

रिंग के अन्दर जाने के लिए तीन सीढ़ियां होनी चाहिए।

रिंग के नीचे लगने वाला लोहा आईएसआई मार्का का होना चाहिए।

कोट

तीन से चार दिन पहले मैंने जिला क्रीड़ा अधिकारी के पद का कार्यभार ग्रहण किया है। बॉक्सिंग रिंग के बारे में पूरी जानकारी कर रहा हूं।

नीरज मिश्र, जिला क्रीड़ा अधिकारी बहराइच

संबंधित खबरें