DA Image
6 अगस्त, 2020|7:06|IST

अगली स्टोरी

बहराइच: ध्यानाकर्षण आधारशिला प्रशिक्षण में गुर सीख रहे शिक्षक

बहराइच: ध्यानाकर्षण आधारशिला प्रशिक्षण में गुर सीख रहे शिक्षक

1 / 2शिवपुर ब्लॉक मुख्यालय स्थित ब्लॉक संसाधन केन्द्र पर ध्यानाकर्षण आधार शिला व शिक्षण संग्रह आधारित प्रशिक्षण 20 जुलाई से चल रहा है। 10 अगस्त तक चलने वाले इस प्रशिक्षण में विभिन्न परिषदीय विद्यालयों के...

बहराइच: ध्यानाकर्षण आधारशिला प्रशिक्षण में गुर सीख रहे शिक्षक

2 / 2शिवपुर ब्लॉक मुख्यालय स्थित ब्लॉक संसाधन केन्द्र पर ध्यानाकर्षण आधार शिला व शिक्षण संग्रह आधारित प्रशिक्षण 20 जुलाई से चल रहा है। 10 अगस्त तक चलने वाले इस प्रशिक्षण में विभिन्न परिषदीय विद्यालयों के...

PreviousNext

शिवपुर ब्लॉक मुख्यालय स्थित ब्लॉक संसाधन केन्द्र पर ध्यानाकर्षण आधार शिला व शिक्षण संग्रह आधारित प्रशिक्षण 20 जुलाई से चल रहा है। 10 अगस्त तक चलने वाले इस प्रशिक्षण में विभिन्न परिषदीय विद्यालयों के 728 शिक्षक प्रतिभाग करेंगे।

शिक्षक प्रशिक्षण के चौथे दिन प्रथम पाली द्वितीय पाली में डायट प्राचार्य उदयराज के निर्देशन में अनुश्रवण एवं मेंटर अश्वनी कुमार शुक्ला ने प्रतिभागियों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि यह प्रशिक्षण सभी शिक्षकों शिक्षामित्र तथा अनुदेशकों के लिए बेहद जरूरी है। प्रशिक्षण संदर्भ दाता बृजेश श्रीवास्तव, महिपाल सिंह, हसीब अहमद खान, धनंजय द्विवेदी तथा रईस अहमद की ओर से संचालित किया जा रहा है। खंड शिक्षा अधिकारी शिवपुर बलदेव प्रसाद यादव ने बताया कि यह प्रशिक्षण दो पाली में शिक्षकों का बैच बनाकर कराया जा रहा है। चौथे दिन भी प्रेरणा लक्ष्य प्राप्त करने के लिए सभी शिक्षक को प्रेरित करने तथा विद्यालय को प्रेरक ब्लॉक बनाने का संकल्प दिलाकर पूर्ण मनोयोग से कार्य करने के लिए प्रेरित किया गया।

कुटिया की भूमि पर अवैध कब्जे का प्रयास

बाबागंज। रुपईडीहा थाने के गेंदपुर करीमगांव में धार्मिक कुटिया व बाबा वंशीधर की समाधि स्थल पर बरजोरों की ओर से कब्जा कर लिया गया था। अब बची भूमि पर भी अन्य लोगों की ओर से जबरन कब्जा कर किया जा रहा। इसका ग्रामीणों ने विरोध करते हुए कड़ा आक्रोश जताया है।

पांच दिन पूर्व शांतिभंग की आशंका के तहत पुलिस ने एक पक्ष से प्रताप व सुरेश तथा दूसरे पक्ष से महेश तिवारी को पाबंद कर चुकी है। फिर भी कुछ लोग निर्माण कार्य कर रहे थे। जिसको स्थानीय पुलिस ने रोकवा दिया है। बलरामपुर स्टेट के राजा पटेशरी ने बाबा वंशीधर को कुटिया बनाने व उनके रहने के लिए भूमि दी थी। बाबा वंशीधर खपरैल की कुटिया बना कर भजन कीर्तन किया करते थे। कुटिया के बाहर कुंआ जगत भी मौजूद है। बताया जाता है कि 15 वर्ष पूर्व बाबा वंशीधर की मृत्यु के बाद कुछ लोगों ने खपरैल के मकान में ही बाबा वंशीधर की समाधि का निर्माण किया था। उसके बाद से कब्जे का सिलसिला जारी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bahraich Teachers learning tricks in meditation cornerstone training