DA Image
2 अगस्त, 2020|11:10|IST

अगली स्टोरी

बहराइच: रक्षाबंधन आज, सजे रहे राखी के स्टॉल

default image

भाई बहनों के पवित्र प्यार का प्रतीक रक्षा बंधन का पर्व सोमवार को मनाया जा रहा है। कोरोना संकट के बीच इस पर्व की परम्परा भी पूरी दृढ़ता के साथ मनाई जा रही है। जिला प्रशासन ने व्यापार मंडल के प्रतिनिधियों के साथ हुई वार्ता के बाद रविवार को चार घंटे के लिए राखी तथा मिठाई की दुकान खोलने की अनुमति दी थी। जिससे राखी व मिठाई की दुकानें खुली रहीं। इन दुकानों पर जमकर ग्राहकों की खासी भीड़ देखी गई।

सावन के अंतिम दिन रक्षा बंधन का पर्व मनाया जाता है। यह पर्व वैसे तो सनातन धर्मावलम्बियों की ओर से मनाया जाता है, लेकिन मध्यकाल में चित्तौड़ के राजा राणा सांगा की पत्नी रानी कर्मावती ने हुमायूं को राखी भेजकर अपने राज्य पर हुए हमले में शत्रु से मुकाबला करने के लिए मदद मांगी थी। हुमायूं ने भाई के धर्म को निभाया, और इस युद्ध में महारानी कर्मावती का साथ भी दिया। उसके बाद से यह पर्व हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक भी बन गया। कई मुस्लिम बहनें हिन्दू भाइयों की कलाई पर, तो हिन्दू बहनें मुस्लिम भाई को भी राखी बांधकर इस परम्परा को निभाती हैं। इस दिन बहन भाई को राखी बांधने से पहले तक व्रत रखती है। सुबह स्नान आदि करने के बाद व्यंजन तैयार करती है। फिर भाई भी स्नान कर साफ कपड़े पहनकर बहन के सामने बैठता है। बहन भाई के माथे पर तिलक लगाकर उसकी आरती उतारती है, फिर दाहिनी कलाई पर राखी बांधकर अपनी सुरक्षा का वचन लेती है। भाई को मिठाई खिलाती है तो भाई बहन को उपहार देता है।

इस बार यह पर्व लॉक डाउन के बीच आया, तो व्यापार मंडल के प्रतिनिधियों ने जिलाधिकारी से मिलकर राखी और मिठाई की दुकान खोलने का अनुरोध किया। जिस पर जिला प्रशासन ने राखी और मिठाई की दुकानें खोलने की अनुमति दी। सोमवार को यह पर्व परम्परागत तरीके से निभाने के लिए अभी से तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bahraich Rakshabandhan today Rakhi stalls are decorated