DA Image
6 अगस्त, 2020|2:49|IST

अगली स्टोरी

बहराइच: रिमझिम बारिश के बीच घरों में हुई ईद उल अज़हा की नमाज

बहराइच: रिमझिम बारिश के बीच घरों में हुई ईद उल अज़हा की नमाज

1 / 3इस्लाम धर्म का दूसरा बड़ा त्योहार शनिवार को ईद-उल अज़हा रिमझिम बारिश के बीच मनाया गया। लोगों ने सोशल डिस्टेंस के साथ घरों में नमाज पढ़ी, और एक दूसरे को मुबारकबाद दी। रिश्तेदारों व दोस्तों को बजरिए...

बहराइच: रिमझिम बारिश के बीच घरों में हुई ईद उल अज़हा की नमाज

2 / 3इस्लाम धर्म का दूसरा बड़ा त्योहार शनिवार को ईद-उल अज़हा रिमझिम बारिश के बीच मनाया गया। लोगों ने सोशल डिस्टेंस के साथ घरों में नमाज पढ़ी, और एक दूसरे को मुबारकबाद दी। रिश्तेदारों व दोस्तों को बजरिए...

बहराइच: रिमझिम बारिश के बीच घरों में हुई ईद उल अज़हा की नमाज

3 / 3इस्लाम धर्म का दूसरा बड़ा त्योहार शनिवार को ईद-उल अज़हा रिमझिम बारिश के बीच मनाया गया। लोगों ने सोशल डिस्टेंस के साथ घरों में नमाज पढ़ी, और एक दूसरे को मुबारकबाद दी। रिश्तेदारों व दोस्तों को बजरिए...

PreviousNext

इस्लाम धर्म का दूसरा बड़ा त्योहार शनिवार को ईद-उल अज़हा रिमझिम बारिश के बीच मनाया गया। लोगों ने सोशल डिस्टेंस के साथ घरों में नमाज पढ़ी, और एक दूसरे को मुबारकबाद दी। रिश्तेदारों व दोस्तों को बजरिए फोन व सोशल मीडिया के जरिए मुबारकबाद दी गई। एसपी डा. विपिन कुमार मिश्रा शहर व ग्रामीण इलाकों का भ्रमण कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेकर जरूरी हिदायत देते रहे।

ईद-उल अज़हा को बकरीद के नाम से भी जाना जाता है। जो कि रमज़ान के 2 महीने 10 दिन के बाद हज़रत मोहम्मद के पूर्वज पैगम्बर हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम की ओर से दी गई एक ज़बरदस्त धर्म परीक्षा की स्मृति में मनाया जाता है। कोविड 19 के संक्रमण के खौफ से मार्च के बाद से सभी धर्मावलम्बियों के पर्व त्योहार केवल प्रतीकात्मक रूप में सोशल डिस्टेंस के दायरे में मनाए जा रहे हैं। जाहिर है ईद-उल अज़हा की भी रस्म अदायगी ऐसे ही वातावरण में हुई। हालांकि शनिवार की भोर से ही घरों में बकरीद को लेकर हलचल शुरू हो गई। ईदगाह व मस्जिद की बजाय लोगों ने सोशल डिस्टेंस को बनाए रखकर नमाज पढ़ी। कुर्बानी की रस्म अदायगी भी हुई। इस बार इसमें 70 फीसदी की कमी देखी गई। चप्पे-चप्पे पर पुलिस की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था शुक्रवार की रात से ही शुरू हो गई।

साप्ताहिक दो दिवसीय लाक डाउन व शनिवार को सुबह से ही रिमझिम तो कभी तेज बारिश ने त्योहार का उत्साह कम कर दिया। शहर के सैय्यद सालार मसऊद गाजी दरगाह में सदर सैय्यद शमशाद अहमद की देखरेख में सोशल डिस्टेंस के साथ परम्परा निभाई गई। शहर के अमीर माह आस्ताने में सदर साजिद अली व रियाज अली की देखरेख में परम्परा निभाई गई।

इनसेट

घरों में सेवईं, छोले व पकवान की रही बहार

बहराइच। घरों में सेवईं, छोले, दही बड़ा आदि पकवान की बहार रही। लोगों ने लाक डाउन के मद्देनजर फेस बुक, व्हाटस एप व अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिए एक दूसरे को मुबारकबाद दिया। यह सिलसिला लगभग तीन दिन तक चलेगा। यह त्योहार तीन दिन तक मनाया जाता है। तीन दिन तक कुर्बानी की परम्परा निभाई जाती है। रविवार को भी यही सिलसिला चलता रहा। उम्मीद है कि सोमवार को ईद उल अज़हा को लेकर सोमवार को अनलाक में चहल पहल रहेगी।

नमाज पढ़कर मांगी कोरोना के खात्मे की दुआ

नानपारा। ईद उल अजहा का पर्व लॉकडाउन के नियमों के अनुरूप परंपरागत शांतिपूर्वक मनाया गया। ईदगाह और मस्जिदों में चंद लोगों ने सोशल डिस्टेंस के साथ नमाज अदा की। सभी लोगों ने अपने अपने घरों में नमाज पढ़कर देश में अमन शांति एवं कोरोना के खात्मे के लिए दुआ की। अंजुमन इस्लामिया कमेटी के मंजूरउल हसन, हसन हाशमी, मौलाना कलीम, मौलाना मोइनुद्दीन कादरी, मौलाना जफर कमाल, मौलाना शोएब और क्षेत्र के संभ्रांत नागरिकों ने पर्व को लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए पूरा कराने में सहयोग किया। पर्व को देखते हुए प्रशासनिक स्तर पर सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। एडीएम जयचंद पांडेय, अपर पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार, एसडीएम राम आसरे वर्मा, सीओ डॉ जंग बहादुर यादव, कोतवाल डीके श्रीवास्तव पुलिस फोर्स के साथ भ्रमण करते रहे।

घरों में अदा की ईद-उल-अजहा की नमाज

बाबागंज। नवाबगंज ब्लॉक क्षेत्र के बाबागंज, चरदा, जमोग, बाबाकुट्टी गांवों में लोगों ने अपने घरों में ईद-उल अजहा की नमाज अदा की। चौक चौराहों पर पुलिस का कड़ा पहरा रहा। कोविड- 19 गाइडलाइन के चलते ईदगाहों व मस्जिदों में चार से पांच लोगों ने नमाज अदा की। थाना प्रभारी प्रमोद कुमार सिंह सुबह से ही क्षेत्र में भ्रमण करते रहे। चौकी प्रभारी बाबागंज शिवनाथ गुप्ता व पुलिस सतर्क रही।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bahraich Eid-ul-Azha prayers in homes amidst rain