DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बहराइच  ›  बहराइच:धीमी तौल के बाद भी 8 लाख कुंतल हुई गेहूं की खरीद

बहराइचबहराइच:धीमी तौल के बाद भी 8 लाख कुंतल हुई गेहूं की खरीद

हिन्दुस्तान टीम,बहराइचPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 11:10 PM
बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद
 सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
1 / 5बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद
 सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
2 / 5बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद
 सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
3 / 5बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद
 सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
4 / 5बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद
 सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...
5 / 5बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके...

बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद

सरकार की ओर से किसानों की उपज की तौल को उनके प्राथमिकता सूची में शीर्ष स्थान देने का दावा किया जाता है। उपज की तौल के लिए सरकार प्रयासरत भी दिख रही है। इस बार जिले में गेहूं खरीद के लिए 187 क्रय केन्द्र बनाए गए हैं, जहां लगातार खरीद जारी है। सोमवार तक क्रय केन्द्रों पर 8 लाख कुंतल गेहूं की खरीद की जा चुकी थी। प्रस्तुत है एक रिपोर्ट

देश की रीढ़ कहे जाने वाले अन्नदाताओं की उपज की खरीद लगातार जारी है। 1 अप्रैल से शुरू हुई गेहूं की खरीद 15 जून तक की जाएगी। सरकार की ओर से इस बार गेहूं का मूल्य 1975 रुपए निर्धारित किया गया है। उपज का सही मूल्य पाने के लिए किसानों को क्रय केन्द्रों का चक्कर लगाते देखा जा रहा है। वहीं खरीद शुरू होने के लगभग दो महीने बाद भी क्रय केन्द्रों से किसानों की भीड़ कम होने का नाम नहीं ले रही है। सुविधापूर्ण गेहूं खरीद के लिए इस बार जिले के खाद्य विभाग व अन्य ऐजेंसियों के 187 क्रय केन्द्र संचालित किए जा रहे हैं। जिनपर सोमवार तक 8 लाख कुंतल की गेहूं खरीद की जा चुकी थी। सोमवार को जिले के पांच क्रय केन्द्रों की पड़ताल की गई। जिसमें क्रय केन्द्रों पर मौजूद किसानों ने धीमी खरीद का आरोप लगाया। कुछ क्रय केन्द्रों पर खरीद चालू तो कुछ पर सन्नाटा देखने को मिला। वहीं एक केन्द्र पर बोरे की कमी के चलते खरीद ठप बताई गई।

पूर्वान्ह 11: 30 बजे

चित्तौरा ब्लॉक के साधन सहकारी समिति डीहा की पड़ताल की गई। डीहा क्रय केन्द्र पर रोड पर ट्रालियों का काफिला खड़ा देखा गया। वहीं केन्द्र पर भी ट्रालियां खड़ी देखी गई। क्रय केन्द्र पर गेहूं की खरीद चालू पाई गई। केन्द्र पर लगभग 8 ट्रालियां खड़ी पाई गईं। वहां मौजूद किसानों से जब बात करने की कोशिश की गई, तो अधिकतर अपनी खरीद प्रभावित होने के डर से अपना मुंह नहीं खोला। वहीं एक किसान ने अपना दर्द बयां किया। ब्लॉक क्षेत्र के अहिरौरा गांव के आए किसान बैजनाथ चौधरी ने बताया कि वह पिछले दो दिन से गेहूं तौल होने का इंतजार कर रहे हैं। आरोप है कि केन्द्र संचालक सुविधाशुल्क के नाम पर वसूली कर रहे हैं। केन्द्र पर व्यापारियों की गेहूं तौल की जा रही है, वहीं जो सुविधा शुल्क नहीं देते हैं उन्हें नंबर आने के बाद भी लटकाया जाता है। जिसके वे भुक्तभोगी हैं, वे दो दिन से यहीं पड़े हैं। वहीं केन्द्र प्रभारी राहुल शुक्ला ने बताया कि सही तरीके से गेहूं तौल चल रही है। बारिश व बोरे के अभाव में बीच में कुछ दिन खरीद प्रभावित हुई थी। उन्होंने बताया कि अब तक केन्द्र पर 6 हजार कुंतल गेहूं खरीद की जा चुकी है। प्रतिदिन औसतन 250 कुंतल गेहूं खरीद की जा रही है।

दोपहर 12 बजे- बाबागंज

जारी रही किसानों के गेहूं की तौल

बहराइच। दोपहर 12 क्षेत्रीय सहकारी समिति रामनगर रोड बाबागंज की पड़ताल की गई। यहां व्यवस्था चाक चौबंद मिली। क्रय केन्द्र पर किसानों की खरीद होती दिखी। अपनी अपज की तौल करा रहे जलालपुर गांव निवासी किसान अशोक कुमार ने बताया कि उन्हें केन्द्र पर किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ा है। उनका नंबर आते ही तौल शुरू हो गई है। केन्द्र प्रभारी पंकज वर्मा ने बताया कि दो-तीन दिनों के दौरान गेहूं तौल प्रभावित हुई थी। मौसम सही होते ही खरीद शुरू कर दी गई है। केन्द्र पर अब तक 2750 कुंतल गेहूं खरीदा की जा चुका है। जिसमें से 1990 कुंतल का भुगतान भी किया जा चुका है।

11 बजकर 40 मिनट- नवाबगंज

बोरे व मजदूरों की कमी से धीमी दिखी खरीद की गति

नवाबगंज। ब्लॉक क्षेत्र के गेहूं क्रय केन्द्र निम्निहारा चौराहा स्थित यूपी कोऑपरेटिव फेडरेशन लिमिटेड की पड़ताल की गई। यहां पर तौल काफी धीमी गति से हो रहा था। गेहूं तौल करवाने के लिए केन्द्र पर 6 ट्रालियों को खड़े देखा गया। केन्द्र पर मजदूरों की कमी व बोरे के अभाव में खरीद की गति धीमी होने की अटकलें सुनने को मिली। धीमी गति के चलते केन्द्र का खरीद लक्ष्य पूरा होता नहीं दिख रहा है। इस केन्द्र को मिले खरीद लक्ष्य का यह अभी आधा हो पाया है, जबकि खरीद मात्र 15 जून तक ही होनी है। केन्द्र प्रभारी रामेंद्र ने बताया कि यहां पर कोई समस्या नहीं है। नियमत: सबकी खरीद की जा रही है। वहीं मौजूद किसान शकील अहमद, सुफियान, विवेकानंद वर्मा, राम राज वर्मा, गोकर्ण प्रसाद पटेल आदि ने भी बिना किसी बाधा के खरीद होने की बात कही। वहीं कुछ किसानों ने बोरे की कमी व मजदूरों की कमी की वजह से तौल न होने का भी आरोप लगाया।

पूर्वान्ह 11 बजे- नानपारा

कुछ ने खरीद तो कुछ ने पैसा न पहुंचने की बताई समस्या

नानपारा। तहसील क्षेत्र के क्रय केन्द्रों की पड़ताल की गई। अधिकांश क्रय केन्द्रों पर गेहूं खरीद की रफ्तार धीमी मिली। सहकारी मंडी समिति में स्थापित दोनों क्रय केन्द्रों पर किसानों के ट्रालियों की कतार देखने को मिली। खाद्य विपणन विभाग के क्रय केन्द्र पर 12 ट्रालियों को खड़ा पाया गया। इस केन्द्र पर अब तक 14 हजार कुंतल खरीद की गई है। केन्द्र पर उठान की समस्या बताकर खरीद बाधित बताई गई। अमरैय्या निवासी राम प्रसाद, सिसवारा निवासी जितेंद्र, बेचई पुरवा निवासी पुत्तन आदि किसानों ने बताया कि उनकी गेहूं की खरीद नहीं हो रही है। अनिल व धर्मेंद्र आदि किसानों ने खाते में उपज का भुगतान न पहुंचने की समस्या बताई। केंद्र प्रभारी मनोज सिंह ने बताया कि अब ई पास मशीन आ चुकी है। गेहूं खरीद में किसानों का मशीन में थम्ब लगेगा। टोकन से खरीद हो रही है। उठान की समस्या के कारण खरीद धीमी हो रही है। वहीं मंडी समिति की ओर से स्थापित गेहूं क्रय केंद्र पर बोरे की समस्या बताई गई। यहां अब तक 10,457 कुंतल गेहूं खरीदा जा चुका है। केंद्र प्रभारी फैसल ने बताया जो किसान आते हैं उनकी गेहूं तौल कराई जाती है। केंद्र पर भीड़ नहीं मिली। इसी दौरान नायब तहसीलदार बलहा मनीष वर्मा ने क्रय केन्द्र का निरीक्षण किया और किसानों की समस्याओं को जाना। उन्होंने केन्द्र पर टोकन से खरीद कराने व किसानों को गेहूं बेचने में किसी भी प्रकार की समस्या न आने देने की बात कही।

दोपहर - अपरान्ह 3 बजे पयागपुर

पयागपुर मंडी में पसरा दिखा सन्नाटा

पयागपुर। पयागपुर मंडी समिति परिसर में स्थापित गेहूं क्रय केन्द्र की पड़ताल की गई। इस दौरान क्रय केन्द्र पर सन्नाटा देखने को मिला। केन्द्र प्रभारी विवेक मिश्रा अपने कागजात दुरुस्त करते देखे गए, तो वहीं पल्लेदार खरीदे गए गेहूं को ट्रक पर लदान कर करते मिले। केन्द्र प्रभारी ने बताया कि सोमवार को 215 कुंतल गेहूं की खरीद की गई है। अब तक 4011 कुंतल 50 किलो गेहूं की खरीद की जा चुकी है। मौके पर पसरे सन्नाटे व एक भी किसान के मौजूद न होने पर जब उनसे सवाल किए गए तो उन्होंने बताया कि कि इस समय गर्मी का मौसम है। जिससे किसान सुबह-सुबह ही आकर गेहूं की तौल करा कर वापस जा चुके हैं। बिक्री कर चुके किसानों को निर्धारित मूल्य 1975 रुपए प्रति कुंतल की दर से भुगतान किया जा रहा है। केन्द्र पर बोरा व धन पर्याप्त मात्रा में मौजूद है। जो भी किसान आ रहे हैं उनकी तौल की जा रही है। क्षेत्र में गेहूं खरीद के लिए 14 क्रय केंद्र स्थापित किए गए हैं। सब कुछ चंगा बताने के बाद भी कई किसानों का आरोप है कि उन्होंने खरीद के लिए ऑनलाइन करा दिया है, लेकिन अभी तक उनका नंबर नहीं आ सका है। जिससे उनकी उपज खराब होने का खतरा मंडरा रहा है।

कोट

गेहूं खरीद सरकार की ओर से जारी निर्देशें के अनुसार की जा रही है। सभी क्रय केन्द्रों पर पर्याप्त मात्रा में बोरे व श्रमिक मौजूद हैं। उपज बेचने वाले किसानों को भुगतान भी अविलंब किया जा रहा है।

संजीव सिंह, खाद्य विपणन अधिकारी

संबंधित खबरें