DA Image
23 जनवरी, 2021|7:30|IST

अगली स्टोरी

किसान का शव घर पहुंचते ही परिवार में मचा कोहराम

default image

दिल्ली धरने पर ठंड से मौत के बाद शुक्रवार देर शाम किसान का शव उसके पैतृक गांव मौजिजाबाद नांगल भगवानपुर पहुंचा। शव के पहुंचते ही परिवार में कोहराम मच गया। गांव में किसान का अंतिम संस्कार हुआ। इस दौरान वहां मौजूद सभी लोगों की आंखे नम हो गई।

मौजिजाबाद नांगल भगवानपुर के किसान गलतान सिंह की शुकवार को दिल्ली में धरने पर ठंड से मौत हो गई। शुक्रवार की देर शाम उसका शव गांव पहुंचता। शव के घर पहुंचते ही उनके घर सांत्वना देने वालों की भीड़ लग गई। शव को देखते ही परिवार में कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। परिजन शव से लिपट-लिपट कर रो रहे थे। देर शाम को ही किसान का अंतिम संस्कार हुआ। किसान की अंतिम यात्रा में क्षेत्र के गणमान्य लोगो के अलावा पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे। किसान की चिता को मुखाग्निी बेटे मोनू ने दी। इस दौरान एसडीएम दुर्गेश मिश्र,सीओ आलोक सिंह,तहसीलदार प्रदीप कुमार,दिगंबर सिंह,गौरव टिकैत,देशखाप चौधरी सुरेन्द्र सिंह,योगेन्द्र सिंह,राजेन्द्र दोघट,बिजेन्द्र प्रधान, आदि थे।

तीनों भाई थे धरने में शामिल

दाहा। मौजिजाबाद नांगल भगवानपुर निवासी गलतान सिह पुत्र मोहरसिंह दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसानों के धरना में शुरुआत से ही शामिल है। बीच बीच मे एक दो बार गांव आया और फिर धरने पर चला गया। गलतान सिह तीन भाई थे। सबसे बड़े आजाद सिह उससे छोटे गलतान सिह और सबसे छोटे भाई जयदेव सिह है। तीनो भाई किसानों के धरने पर तन मन धन से लगे हुए थे।

-------

17 बीघा जमीन पर खेती करता था गलतान सिंह

दाहा। कृषि कानून के विरोध में चले रहे गाजीपुर बॉडर पर किसानो के धरने पर मौजिजाबाद नांगल गांव के तीन सगे भाई बराबर धरने पर बेठे है। खेती को परिवार के लोग ही देख भाल कर रहे है। जिसमे तीनो भाइयों के छोटे लड़के गौरव मोहित खेती का कार्य कर है। जिसमे मृतक गलतान सिह 17 बीघा जमीन है। जिसमे खेती बाड़ी कर परिवार के सदस्यों का लालन पालन कर रहा था।

---

सरकार की हठधर्मिता ने ली मेरे बेटे की जान

बड़ौत। मृतक गलतान सिंह की मां बाला ने बताया कि तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए उनके तीनों बेटे दिल्ली में किसानों के साथ धरना दे रहे थे। सरकार की हठधर्मिता के कारण उनके बेटे की जान चली गई। अगर सरकार किसानों की बात मानकर कानून वापस कर लेती तो उसके बेटे की जान बच सकती थी।

----

सांत्वना देने पहुंचे जयंत चौधरी

दाहा । दिल्ली में गाजिपुर बार्डर पर धरने पर बैठे बागपत के किसान की मौत की सूचना पर रालोद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी पहुंचे। वहां पर उन्होंने पीड़ित परिवार को सांत्वना दी।

----

कानून वापस होने तक जारी रहेगा आंदोलन

दाहा। किसानों ने बताया कि गलतान सिंह की मौत जाया नहीं जाएगी। कानून वापस होने तक आंदोलन जारी रहेगा। किसान पीछे हटने वाले नहीं है। किसान रुपेन्द्र मुखिया,सुधीर मुखिया,बिजेन्द्र सिंह, रामपाल ने बताया कि वह भी दिल्ली धरने पर जाएंगे और कानूनों के वापस होने तक वहीं रहेंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:There was chaos in the family as soon as the dead body of the farmer reached home