DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बागपत › शुगर मिलों में गन्ना पेराई सत्र व तौल कांटे लगाने की तैयारी शुरू
बागपत

शुगर मिलों में गन्ना पेराई सत्र व तौल कांटे लगाने की तैयारी शुरू

हिन्दुस्तान टीम,बागपतPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 10:30 PM
 शुगर मिलों में गन्ना पेराई सत्र व तौल कांटे लगाने की तैयारी शुरू

जिले के सवा लाख से अधिक किसान जनपद के तीन शुगर मिलों के अलावा मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, हापुड़ व गाजियाबाद के मिलों को प्रत्येक वर्ष करीब चार- पांच करोड़ कुंतल से अधिक गन्ने की आपूर्ति करते हैं। इसके एवज में किसानों को करोड़ों का भुगतान किया जाता है। ऐसे में एक बार फिर से शुगर मिलों में पेराई सत्र 2021-2122 की तैयारी शुरू हो गई है। उम्मीद है कि 20 अक्तूबर के बाद मिलों में पेराई सत्र का शुभारंभ कर दिया जाएगा। इसके लिए मिल प्रशासन के स्तर पर तौल कांटे लगाने एवं मरम्मत कार्य को अंतिम रूप दिया जा रहा है। हालांकि अभी क्रय केन्द्रों का निर्धारण नहीं हुआ है।

बता दें जिले में सवा लाख से अधिक बागपत एवं रमाला सहकारी मिल, मलकपुर शुगर मिल के अलावा 10 मिलों को गन्ने की आपूर्ति करते हैं। इस बार भी इन सभी मिल प्रबंधन ने जिले में कई जगहों पर तौल कांटे लगाने की तैयारी में है जिससे कि समय से गन्ना तौल हो सके। बागपत शुगर मिल में भी पेराई सत्र शुरू कराने के लिए मरम्मत कार्य चल रहा है। हालांकि अभी तक गन्ना यार्ड की सफाई नहीं हुई है। उधर रमाला सहकारी चीनी मिल में आगामी पेराई सत्र के लिए सभी तैयारियां जोरों पर है। मिल परिसर में साफ सफाई के साथ-साथ मशीनरी की साफ-सफाई कांटों की रंगाई पुताई के साथ कंप्यूटर आदि का रखरखाव का काम चल रहा है। रमाला सहकारी चीनी मिल के वाह्य क्रय केंद्र 21 हैं जबकि 8 क्रय केंद्र गेट पर है। इन केन्द्रों पर 13 अक्तूबर से 19 अक्तूबर के बीच कांटे लगाए जाएंगे। बॉयलर की पूजा 14 अक्तूबर को होगी। मेरठ मंडल मेरठ के खांड सारी अधिकारी प्रदीप कुमार ने मुख्य गन्ना अधिकारी अजय कुमार यादव के साथ मिलकर मिल परिसर में सफाई निरीक्षण किया। मलकपुर शुगर मिल प्रशासन ने 25 अक्तूबर तक मिल चलाने की बात कही है। उधर जिला गन्नाधिकारी अनिल कुमार भारती शुगर मिलों को क्रय केन्द्र आवंटित कराने के लिए लखनऊ रवाना हो गए हैं।

----

जिले के तीनों शुगर मिलों पर 474 करोड़ रुपये बकाया

बागपत, रमाला और मलकपुर शुगर मिल पर किसानों को अभी भी गन्ना पेराई सत्र 2020-2021 का करीब 474 करोड़ रुपये भुगतान बकाया है। भाकियू के जिलाध्यक्ष प्रताप गुर्जर, युवा जिलाध्यक्ष हिम्मत सिंह, किसान नेता राजेन्द्र सिंह आदि ने शासन प्रशासन से मिल में पेराई सत्र शुरू होने से पूर्व बकाया गन्ना भुगतान की मांग की है।

संबंधित खबरें