ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश बागपतशहर से लेकर गांव तक पहुंचेगी आरआरटी टीम

शहर से लेकर गांव तक पहुंचेगी आरआरटी टीम

बागपत। जिले में वायरल आदि संक्रामक बीमारियों का प्रकोप थम नहीं रहा। ऐसे में एक ही घर या इलाके में पांच से अधिक मरीज (एक ही बीमारी) के पाए जाते हैं,...

शहर से लेकर गांव तक पहुंचेगी आरआरटी टीम
हिन्दुस्तान टीम,बागपतWed, 24 Aug 2022 11:20 PM
ऐप पर पढ़ें

बागपत। जिले में वायरल आदि संक्रामक बीमारियों का प्रकोप थम नहीं रहा। ऐसे में एक ही घर या इलाके में पांच से अधिक मरीज (एक ही बीमारी) के पाए जाते हैं, यानि रोग महामारी की तरह फैलता है, तो स्वास्थ्य विभाग की स्पेशल टीम तुरंत मौके पर पहुंचकर कैंप करेगी। लोगों की जांच के साथ मरीजों को दवा दी जाएगी। मरीज की हालत गंभीर हुई तो अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा। यह कार्य रेपिड रिस्पांस टीम (आरआरटी) करेगी, जिसका गठन सीएमओ ने किया है। आरआरटी में एपिडेमियोलाजिस्ट (महामारी रोग विशेषज्ञ), पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट, फिजीशियन या बाल रोग विशेषज्ञ, पैथोलाजिस्ट समेत सात से आठ सदस्य हैं। यही टीम सर्विलांस का कार्य करेगी।

बुखार का बढ़ रहा प्रकोप-

जिले में बुखार का प्रकोप बढ़ रहा है। डेंगू के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग भले ही एलाइजा टेस्ट के बाद ही डेंगू रोगियों की पुष्टि कर रहा हो, लेकिन निजी अस्पतालों में संदिग्ध मरीजों की भरमार है। हालात से स्वास्थ्य विभाग ही नहीं, सरकार भी वाकिफ है। कोई बीमारी महामारी का रूप न ले ले, इसे लेकर विभाग सतर्क है। सात सितंबर से विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान शुरू किया है। इसमें आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, घर-घर जाकर मरीजों को चिह्नित कर रही हैं। हालांकि, अभी तक ऐसी सूचना नहीं आई, जहां पर एक ही परिवार या गली में पांच या उससे अधिक मरीज एक ही बीमारी के पाए गए हों। यदि ऐसा पाया जाता है तो आरआरटी तुरंत सक्रिय हो जाएगी। जिला सर्विलांस अधिकारी या संचारी रोग नियंत्रण अधिकारी के नेतृत्व में यह टीम तुरंत प्रभावित क्षेत्र में पहुंचकर कार्यवाही शुरू करेगी। इस टीम में विशेषज्ञों के अलावा लेब टेक्नीशियन, स्टाफ नर्स, फार्मासिस्ट, वार्ड ब्वाय भी शामिल हैं। डब्ल्यूएचओ व यूनिसेफ के प्रतिनिधियों को भी सूचित किया जाएगा।

कोट-

जनपद में अभी तक कहीं भी आउटब्रेक नहीं हुआ है। ऐसा होता है तो जिला सर्विलांस व रेपिड रिस्पांस टीम रोग नियंत्रण के लिए सैंपलिंग व अन्य उपाय करेंगी। मरीजों को दवा उपलब्ध कराई जाएगी। गंभीर मरीज को अस्पताल भिजवाया जाएगा।

डा. दिनेश कुमार, सीएमओ

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।