Property on excess of income received on suspended steno report report - निलबिंत स्टेनो पर मिली आय से अधिक संपत्ति, रिपोर्ट दर्ज DA Image
7 दिसंबर, 2019|10:24|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निलबिंत स्टेनो पर मिली आय से अधिक संपत्ति, रिपोर्ट दर्ज

निलबिंत स्टेनो पर मिली आय से अधिक संपत्ति, रिपोर्ट दर्ज

छपरौली के सहायक शिक्षक से रिश्वत लेते पकड़े गए बीएसए के स्टेनो के पास आय से 61 प्रतिशत अधिक परि संपत्ति पाई गई है। गुरुवार को एंटी करप्शन विभाग के निरीक्षक ने आरोपी के खिलाफ बागपत कोतवाली में स्टेनो के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

आरोपी स्टेनो फिलहाल जेल में बंद है। गुरुवार को भ्रष्टाचार निवारण संगठन मेरठ के निरीक्षक अरविंद कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि शासन के निर्देशों पर 15 मई 2014 को बेसिक शिक्षा अधिकारी बागपत के स्टेनो विनोद कुमार मसीह पुत्र स्व. राजबीर सिंह निवासी औसिक्का की अनानुपातिक परिसंपत्तियों की जांच उन्हे सौंपी गई थी। जांच में पाया गया कि विनोद मसीह की नियुक्ति गत 9 अक्तूबर 1993 में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के पद पर हुई थी।

बाद में प्रमोशन होकर विनोद लिपिक के पद पर तैनात कर दिया गया।उसने सेवा में आने के बाद एक अक्तूबर 2008 से 31 जनवरी 2010 तक अनानुपातिक परिसंपत्तियां अर्जित कीं। आरोपी के चेक अवधि एक अक्तूबर 2008 से 31 जनवरी 2010 तक निर्धारित हुए आय-व्यय की गणना की गई तो स्टेनो का वेतन भत्ता, ऐरियर, कृषि तथा बैंक ऋण आदि से कुल वैध आय 1 लाख 42 हजार 655 हुई, जबकि इस अवधि ने उसने पारिवारिक भरण पोषण आदि पर 2 लाख 30 हजार 175 व्यय किया। बताया कि स्टेनो पर आय के सापेक्ष 87, 520 रुपये की धनराशि यानि आय से 61 प्रतिशत अधिक धन है तथा अन्य परिसंपत्तियां होने की भी संभावना है।

पूछताछ के दौरान इस संबंध में स्टेनो ने कोई साक्ष्य भी प्रस्तुत नहीं किया। इस संबंध में निरीक्षक अरविंद कुमार ने कोतवाली में आरोपी विनोद मसीह के खिलाफ धारा 13 (1) ख, सपठित धारा 13 (2)भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 के अन्तर्गत रिपोर्ट दर्ज कराई है। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक शिव कुमार सिंह का कहना है कि आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है।

दो माह पहले ही एंटी करप्शन टीम ने रिश्वत लेता पकड़ा था स्टेनो

बागपत। बता दें कि नवंबर माह में बीएसए रांजीव कुमार मिश्र ने छपरौली प्राथमिक विद्यालय का निरीक्षण किया था, जहां निरीक्षण के दौरान सहायक शिक्षक सोमित बिश्नोई अनुपस्थित पाया गया। जवाबतलबी पर सहायक शिक्षक ने स्वयं बीएसए के समक्ष खड़े होकर स्पष्टीकरण दिया, जहां उन्हे माफ कर दिया गया था, लेकिन उसी दौरान स्टेनो विनोद मसीह सहायक शिक्षक पर बीएसए के नाम पर दस हजार रुपये रिश्वत मांगने लगा।

काफी दबाव के बाद शिक्षक ने एंटी करप्शन सेल में शिकायत की, जहां 11 दिसंबर 2018 को उसे रंगेहाथों रिश्वत लेते दबोच लिया गया। बीएसए ने मामले को गंभीरता से लेते हुए निलंबित कर दिया था, जिसके बाद से ही वह जेल में बंद है तथा जमानत याचिका तक खारिज हो चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Property on excess of income received on suspended steno report report