DA Image
15 जुलाई, 2020|2:10|IST

अगली स्टोरी

प्रशांत को फैसले के लिए बुलाकर उतारा मौत के घाट

default image

बागपत के छपरौली गांव निवासी लविश के बुआ के लड़के प्रशांत को भी गोली मारकर मौत के धात उतार दिया गया। प्रशांत का शव शुक्रवार देररात मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना थानाक्षेत्र के गांव मिडकाली के जंगल में पड़ा मिला। वहीं पास में ही लखनऊ में मारे गए लविश का हत्यारोपी सौरभ निवासी बुढ़ाना जिला मुजफ्फरनगर भी गंभीर अवस्था घायल पड़ा मिला, जिसे पुलिस ने मेरठ मेडिकल में भर्ती करा दिया है।

पुलिस का मानना है कि मुकदमे में फैसले के लिए प्रशांत को बुलाकर मौत के घाट उतारा गया, फिलहाल जांच चल रही है, जल्द ही अन्य आरोपियों को भी पकड़ लिया जाएगा। मृतक के पिता की ओर से घायल सहित दो के खिलाफ बुढ़ाना कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज करायी गयी है।

जानकारी के अनुसार मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना थाना क्षेत्र के गांव मिडकाली के जंगल मे शुक्रवार रात लगभग एक बजे जमकर फायरिंग हुई। सूचना पर बुढ़ाना सीओ गिरजा शंकर त्रिपाठी व कोतवाली प्रभारी कुशलपाल सिंह टीम के साथ मौके पर पहुंचे। जहां एक खेत मे प्रशांत पुत्र सतीश निवासी गांव वाजिदपुर जिला बागपत का गोली लगा शव पड़ा था, जबकि कुछ दूरी पर सौरभ उर्फ गोटी पुत्र सुधीर निवासी गांव इटावा जिला मुजफ्फरनगर गंभीर अवस्था में घायल पड़ा हुआ था।

पुलिस ने घायल को मेरठ मेडिकल में भर्ती कराया जबकि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। ममरे भाई के मुकदमे में वादी था प्रशांत16 मई को लखनऊ के मोहनलालगंज में प्रशांत के ममेरे भाई लविश पुत्र देवेन्द्र निवासी गांव रिठौरा थाना छपरौली जिला बागपत की गला काटकर हत्या कर दी गयी थी।

हत्या में मृतक प्रशांत की ओर से सौरभ निवासी बुढ़ाना और अनिल उर्फ धनपत पुत्र नरेन्द्र निवासी गांव ककड़ीपुर थाना रमाला जिला बागपत के खिलाफ लखनऊ में रिपोर्ट दर्ज कराई गयी थी। घायल सौरभ 15 दिसम्बर 2019 की रात में हुई बुढ़ाना कोतवाली के गांव इटावा निवासी विजय राठी उर्फ उत्थान की हत्या के मामले में भी आरोपी है, जो वांछित चल रहा था।

फिलहाल मकान पर कुर्की वारंट भी चस्पा हो चुके हैं। इस हत्या की कड़ी को लखनऊ में हुई हत्या से जुड़ी है। पुलिस इस घटना को गैंगवार मानकर चल रही है। प्रशांत दो भाइयों में छोटा था, उसका बड़ा भाई एयरफोर्स में नौकरी करता था। सूचना मिलते ही प्रशांत के परिजन बुढ़ाना रवाना हो गए। परिजनों ने बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि प्रशांत मिडकाली कैसे पहुंचा। बड़ौत कोतवाली प्रभारी अजय शर्मा ने बताया कि प्रशांत के खिलाफ वर्ष 2018 में धारा 307 व 25 आम्र्स एक्ट के तहर रिपोर्ट दर्ज हुई थी।

दोनों पक्षों में चलीं ताबड़तोड़ गोलियां

बुढ़ाना पुलिस का कहना है कि प्रशांत के पिता सतीश ने कोतवाली बुढ़ाना में रिपोर्ट दर्ज कराते हुए बताया कि उसके साले का लड़का लविश लखनऊ में प्रदीप चौधरी के फार्म हाउस पर गया हुआ था। उसकी हत्या फार्म हाउस पर रह रहे सौरभ उर्फ गोटी पुत्र सुधीर निवासी गांव इटावा थाना बुढ़ाना ने अपने साथी फार्म हाउस मालिक के ड्राइवर अनिल निवासी गांव ककड़ीपुर जिला बागपत के साथ मिलकर कर दी थी। इसकी रिपोर्ट उसके लड़के प्रशांत ने ही लखनऊ के मोहनलालगंज थाने में दर्ज कराई थी।

हत्यारोपी सौरभ व अनिल उसके लड़के पर उसी दिन से फैसले का दबाव बना रहे थे। मृतक के पिता ने पुलिस को बताया कि बीती रात उसके बेटे को आरोपियों ने गांव मिडकाली के जंगल मे सुभाष की ट्यूबवेल पर बुलाया और फैसले के लिए डराया धमकाया।

फैसले के दौरान बात बिगड़ने पर उसके बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई। हमलावरों की गोली से उनका साथी सौरभ भी घायल हो गया। हालांकि पुलिस सूत्रों का यह भी कहना है कि रात में दोनों पक्षों के लोग मिडकाली के जंगल में फैसले की बातचीत को तैयारी के साथ पहुंचे थे।

वहां उनके बीच फायरिंग हुई है। फायरिंग में प्रशांत की गोली लगने से मौत हो गयी, जबकि सौरभ घायल हो गया। पुलिस ने मौके से पिस्टल के खोके भी मिले है। पुलिस इसे गैंगवार मानकर चल रही है। घटना में शामिल दोनों पक्षों के लोगों की पुलिस तलाश कर रही है।

शार्प शूटर है घायल सौरभ

पुलिस के अनुसार घायल सौरभ बड़ा अपराधी है। वह बुढ़ाना पुलिस का वांछित चल रहा था। पिछले काफी समय से वह क्षेत्र में घूम रहा था। इस बात की भनक पुलिस को नहीं लगी। घायल के मकान की पुलिस कुर्की भी कर चुकी है। ग्रामीणों का कहना कि घायल को पिछले तीन चार दिनों से क्षेत्र में घूमते हुए देखा जा रहा था। माना जा रहा है कि लखनऊ में हुई हत्या के बाद वह क्षेत्र में भाग आया था। उसके बावजूद पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी नहीं की।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Prashant was sent to judgment and killed