Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश बागपतखतरनाक स्थिति की ओर बढ़ रहा प्रदूषण, एक्यूआई दर्ज हुआ 368

खतरनाक स्थिति की ओर बढ़ रहा प्रदूषण, एक्यूआई दर्ज हुआ 368

हिन्दुस्तान टीम,बागपतNewswrap
Mon, 29 Nov 2021 03:45 PM
खतरनाक स्थिति की ओर बढ़ रहा प्रदूषण, एक्यूआई दर्ज हुआ 368

प्रदूषण का रोजाना बढ़ता स्तर हवा की सेहत बिगाड़ रहा है। जिम्मेदारों की लापरवाही जहां इसे बेहद खतरनाक स्थिति ओर बढ़ा रही है, वहीं हवा नहीं चलने की वजह से प्रदूषण वायुमंडल से छट नहीं पा रहा है। सोमवार को भी बागपत का एक्यूआइ 368 दर्ज किया गया। जिससे दमा रोगियों के साथ आम लोगों की भी सांसे उखड़ी रही। कई दमा रोगियों को तो अस्पतालों में भर्ती कराना पड़ा।

बागपत में प्रदूषण की रोकथाम की कवायद ढीली पड़ रही है। जिम्मेदार विभाग लापरवाह बने हुए है। पिछले कई दिनों से न तो पानी का छिड़काव कराया जा रहा है और न ही निर्माण सामग्री को ढका जा रहा है। हाइवे की धूल भी राहगीरों का जीना मुहाल किए हुए है। हवा नहीं चलने की वजह धूल एवं धुएं के महीन कण भी वातावरण में घुल रहे है। जिसकी वजह से प्रदूषण का स्तर कम होने की बजाय बढ़ता जा रहा। रेड जान से बाहर आने के बजाए एक्यूआइ बेहद खतरनाक स्थिति की ओर बढ़ने लगा। सोमवार की दोपहर बागपत का एक्यूआई 368 दर्ज किया गया। ऐसे में हवा में घुले जहर की वजह से लोगों की सेहत बिगड़ने लगी है। श्वास और ह्दय रोगियों को परेशानी होने लगी हैं। इसके अलावा लोगों में एलर्जी, खांसी-जुखाम के साथ गले में जलन, छींक और खासी की शिकायत बढ़ गई है। कई मरीजों को तो तबियत खराब होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

---

मास्क लगाकर ही घर से निकले बाहर-

बढ़ता प्रदूषण लोगों के लिए हानिकारक साबित हो रहा है। ऐसे में लोगों को स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना होगा। फिजीशियन डा. राजेश कुमार का कहना है कि प्रदूषण से बचाव करने के लिए घर से कम ही बाहर निकलें। सांस लेने में दिक्कत होने पर पांच से दस मिनट तक भाप लें। यदि घर से बाहर निकले भी तो मास्क जरूर लगाएं। इससे नाक, आंख सुरक्षित रहेंगी। घी या अणु तेल (आयुर्वेदिक औषधि) का इस्तेमाल भी करें। वायु प्रदूषण के कारण गले में खराश या दर्द होने पर गुनगुने पानी में नमक या बीटाडीन डालकर गरारे करें। इसके अलावा एक चम्मच शहद में थोड़ा सा मुलेठी चूर्ण मिलाकर दिन में दो बार इसका सेवन करने से भी राहत मिलेगी। आंखों में जलन, पानी बहने या लाल होने पर पलकों पर घी लगाएं।

---

कोट-

बागपत में प्रदूषण का स्तर और न बढ़े, इसके लिए सड़कों पर पानी का छिड़काव कराया जा रहा है। निर्माण कंपनियों को निर्माण सामग्री ढककर रखने के निर्देश दिए गए है। सभी संबंधित विभागों को निर्देश जारी कर दिए गए है। लापरवाही पर कार्रवाई की जाएगी।

अमित कुमार, एडीएम बागपत

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें