अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेल में अब मुलाकातियों के खिंचेंगे फोटो

जेल में अब मुलाकातियों के खिंचेंगे फोटो

बागपत जिला जेल में बंद बंदियों से अब खूले में घूम रहे उनके साथी बदमाश फर्जी नाम से उनसे मुलाकात नहीं कर सकेंगे। जेल प्रशासन ने इस पर अंकुश के लिए कम्प्यूटराईज्ड पर्ची बनवानी शुरू कर दी है। पर्ची पर वैब कैमरे से फोटो भी चस्पा किए जा रहे हैं। उनका आईडी प्रुफ भी जमा किया जा रहा है।

बागपत की जिला जेल में बंद बंदियों से मुलाकात की बड़ी ही आसान पक्रिया चल रही थी। कोई भी किसी भी नाम से पर्ची बनवाकर बंदियों से मिल लेता था। नौ जुलाई को पूर्वांचल के कुख्यात बदमाश मुन्ना बजरंगी को मौत के घाट उतारे जाने के बाद जेल प्रशासन ने इस प्रक्रिया को बदलने का निर्णय लिया था।

अब जेल में बंद बंदियों से मुलाकात करने के लिए पहुंचने वाले लोगों के वैब कैमरे से फोटो खींचे जा रहे है। उनका आईडी प्रुफ जमा किया जा रहा है। इसके बाद उन्हें फोटो युक्त कम्पयूटराईज्ड मुलाकात पर्ची दी जा रही है। उस पर उनका पूरा डाटा प्रिंट किया जा रहा है।

जेल अधीक्षक सुरेश कुमार सिंह का कहना है कि इस प्रक्रिया के बाद मुलाकात करने के लिए पहुंचने वाले लोगों का ब्यौरा जेल के कम्पयूटर में दर्ज हो रहा है। कोई भी बड़ी घटना होने के बाद पुलिस प्रशासन को इससे बड़ी सहायता मिलेगी। वह आसानी से पता कर सकेगी कि किस बदमाश से किस-किस ने मुलाकात की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Photos in the jail now will be dragged