DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बागपत  ›  पीएम केयर फंड से जिला अस्पताल में लगेगा ऑक्सीजन प्लांट

बागपत पीएम केयर फंड से जिला अस्पताल में लगेगा ऑक्सीजन प्लांट

हिन्दुस्तान टीम,बागपतPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 09:50 PM
 पीएम केयर फंड से जिला अस्पताल में लगेगा ऑक्सीजन प्लांट

बागपतवासियों को सकून पहुंचाने वाली खबर है। जिला अस्पताल में प्रधानमंत्री केयर फंड से ऑक्सीजन प्लांट लगाया जाएगा। डीआरडीओ प्लांट लगवाएगा, जबकि एनएचएआई प्लांट स्थापना में सहयोग करेगा। जल्द ही प्लांट स्थापना का कार्य शुरू हो जाएगा। प्लांट चालू होने के बाद जिले में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं रहेगी।

समूचा देश कोरोना महामारी के संकट से जूझ रहा है। दूसरी लहर ने तो देशभर में कहर बरपाया हुआ है। काफी रोगियों की तो ऑक्सीजन की कमी के चलते मौत भी हो चुकी है। बागपत जिले में भी कोरोना की दूसरी लहर ने खूब कहर बरपाया। गंभीर रूप से बीमार कोरोना रोगियों को सांस देने के लिए प्रशासन ने मेरठ, मुजफ्फरनगर ओर हरिद्वार से ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कराई थी, लेकिन अब बागपत के प्लांट से हो जिले के रोगियों को ऑक्सीजन मिलेगी। जिला अस्पताल में प्रधानमंत्री केयर फंड से ऑक्सीजन प्लांट लगने जा रहा है। करीब डेढ़ करोड़ रुपये की लागत से लगने वाले इस प्लांट का निर्माण कार्य डीआरडीओ कराएगा, जबकि एनएचएआई प्लांट स्थापना में सहयोग करेगी। इस संबंध में सीएमओ डा. आरके टन्डन ने बताया जिला अस्पताल में स्थापित होने वाले ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण कार्य डीआरडीओ और एनएचएआई कराएगा। पीएम केयर फंड से लगने वाले प्लांट का निर्माण कार्य जून माह के प्रथम सप्ताह में शुरू हो जाएगा। प्लांट चालू होने के बाद जिले में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं रहेगी। रोगियों को भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन मिलेगी।

---

क्या होगा फायदा-

जिला मुख्यालयों के सरकारी अस्पतालों में पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली को और मजबूत करना है। इससे प्रत्येक अस्पतालों में कैप्टिव ऑक्सीजन उत्पादन की सुविधा बनी रहेगी। इस तरह से अपने स्तर पर ऑक्सीजन उत्पादन सुविधा से इन अस्पतालों और जिले की दिन-प्रतिदिन की मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरतें पूरी हो सकेंगी। इसके अलावा, तरल चिकित्सा ऑक्सीजन (एलएमओ) कैप्टिव ऑक्सीजन उत्पादन के ‘टॉप अप के रूप में काम करेगा। इस तरह की प्रणाली यह सुनिश्चित कर सकेगी कि जिले के सरकारी अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति में अचानक व्यवधान न उत्पन्न हो सके और कोरोना मरीजों व अन्य जरूरतमंद मरीजों के लिए निर्बाध रूप से पर्याप्त ऑक्सीजन मिल सके।

संबंधित खबरें