DA Image
24 सितम्बर, 2020|11:53|IST

अगली स्टोरी

हिन्दुस्तान घंटी बजाओ: सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर प्रशिक्षण ले रहे निशानेबाज

default image

देश में कोरोना वायरस जैसी महामारी की रोकथाम के लिए देश में लॉकडाउन लागू किया गया है। लॉकडाउन के चलते लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं कुछ प्रशिक्षु निशानेबाज लॉकडाउन का पालन करते हुए अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित है।

हिन्दुस्तान टीम शुक्रवार को बिनौली और जौहड़ी गांव मे स्थित दो शूटिंग रेंज के निशानेबाजों और उनके कोच से मिली और लॉकडाउन में वह किस प्रकार प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे है, इसकी जानकारी उनसे ली।बिनौली गांव में स्थित यूथ शूटिंग स्पोर्ट्स एकेडमी पर कोच अरविंद तोमर ने बताया कि आज की युवा पीढ़ी निशानेबाजी के क्षेत्र में काफी अग्रणी भूमिका निभा रही है।

युवा निशानेबाजी के खेल को बतौर कैरियर लेकर चल रहे है, जिसके लिए वह रात दिन मेहनत करते हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस देश के लिए बहुत बड़ा संकट है, इसलिए हम सबको एकजुट होकर इस वायरस को देश से भगाने के लिए लॉकडाउन का पूर्ण रूप से पालन करना होगा। उन्होंने बताया कि शूटिंग रेंज पर लॉकडाउन से पहले 40 प्रशिक्षु शूटर निशानेबाजी का प्रशिक्षण लेने आते थे, लेकिन अधिकतर शूटर अपने घरों मे रहकर ही अभ्यास कर रहे हैं। जो दो चार शूटर गांव के ही है वह सप्ताह में दो दिन कुछ समय के लिए अभ्यास करने के लिए आते है, उन सभी को पहले सेनीटाइज किया जाता है, और वह पूरा सोशल डिस्टेंटिंग को ध्यान मे रखते हुए मास्क लगाकर अभ्यास करते है।

इसके अलावा जौहड़ी गांव मे स्थित एकलव्य स्पोट्र्स शूटिंग एकेडमी के कोच बिट्टू खान का कहना है कि लॉकडाउन होने के कारण शूटिंग एकेडमी पर अवकाश घोषित कर दिया गया है, लेकिन गांव के ही दो तीन प्रशिक्षु निशानेबाज है, जो अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित हैं, वह कुछ समय के लिए अभ्यास करने के लिए आते है।

उन्होंने बताया कि लॉकडाउन से पहले शूटिंग रेंज पर 30 प्रशिक्षु निशानेबाज निशानेबाजी का अभ्यास करने के लिए आते थे, जो सभी आसपास के गांव के रहने वाले है। अब सभी शूटर अपने अपने घरों मे रहकर निशानेबाजी का अभ्यास कर रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hindustan ring the bell shooters training after following social distancing