DA Image
23 सितम्बर, 2020|4:59|IST

अगली स्टोरी

बिना बताए जनपद छोड़ने पर डीआईओएस से स्पष्टीकरण

बिना बताए या फिर उच्च अधिकारियों के अनुमति लिए बिना ही जनपद छोड़ने वाले अधिकारियों पर शासन के बाद उच्चाधिकारी भी गंभीर हो गए है। जिसके चलते मुख्यालय से कई-कई दिन तक बिना बताए गायब रहने पर डीएम ने नोटिस जारी कर तीन दिन के अंदर स्पष्टीकरण मांगा व मई माह का वेतन रोकने की कार्रवाई की।

डीएम पवन कुमार ने डीआईओएस की कई दिनों की अनुपस्थित को दर्ज कराई है। जिसमे बोर्ड परीक्षा से लेकर अन्य दिनों में वह बिना बताए जनपद से गायब रहे। बड़ौत में रविवार को हुई परीक्षा में भी गैरहाजिर रहे, जिसमे उनकी ड्यूटी स्टेटिक मजिस्ट्रेट के रूप में लगाई गई थी। इसके अलावा वह पत्रावलियों को भी कार्यालय में छोडकर चले गए। डीआईओएस पर डीएम पवन कुमार ने नाराजगी जताई।

डीएम पवन कुमार ने कहा कि डीआईओएस आदेशों का उल्लंघन कर रहे है जो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। डीएम ने नोटिस जारी कर तीन दिन में स्पष्टीकरण मांगा और मई माह का वेतन रोकने के आदेश जारी किए। समय पर उचित जवाब नहीं मिलने पर विभागीय कार्रवाई भी की जाएगी। जिसके लिए शासन को लिखा जाएगा। डीएम पवन कुमार ने कहा कि शासन के आदेशों का उल्लंघन किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। आदेशों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं डीआईओएस बृजेंद्र कुमार का कहना है कि डीएम की चुनाव की व्यस्थता के कारण कुछ नहीं बता पाए। जल्द अपना स्पष्टीकरण देंगे और सभी आदेश का पालन किया जाएग।

इस तरह जनपद से नदारद रहे डीआईओएस

डीएम पवन कुमार की जांच में डीआईओएस चार फरवरी की शाम से मुख्यालय छोड़ने अनुमति पत्रावली बिना स्वीकृति कराए ही मुख्यालय छोड़कर चले गए। 26 मई को संयुक्त प्रवेश परीक्षा में परीक्षा में बड़ौत के दिगंबर जैन इंटर कॉलेज में स्टेटिक मजिस्ट्रेट बनाए गए थे, लेकिन वहां भी नहीं पहुंचे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Explanation from DEOs on leaving the state without informing