DA Image
24 अक्तूबर, 2020|6:14|IST

अगली स्टोरी

डाक्टर्स डे: अपनी जिंदगी को दांव पर लगाकर कोरोना संक्रमितों को उपचार दे रहे सरकारी चिकित्सक

डाक्टर्स डे: अपनी जिंदगी को दांव पर लगाकर कोरोना संक्रमितों को उपचार दे रहे सरकारी चिकित्सक

कोरोना संक्रमितों को अपनी जान जोखिम में डालकर उपचार देने वाले सरकारी चिकित्सक वास्तव में शैल्यूट के हकदार है। दिन-रात वे जिलेभर के कोरोना संक्रमितों को उपचार देने के साथ नए रोगियों को तलाशने में जुटे रहते है। इतना ही नहीं उन्हें अपने परिवार और बच्चों से मिले भी महीनों बीत गए है।

समूचा देश इस समय कोरोना के संकट से जूझ रहा है। बागपत जिले में भी अब तक 265 कोरोना संक्रमित रोगी मिल चुके है। जिससे प्रशासन के साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और चिकित्सकों की भी नींद उड़ी हुई है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और चिकित्सक अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभा रहे है। दिन हो या रात, वे जान जोखिम में डालकर कोरोना संक्रमितों को उपचार देने के साथ नए रोगियों को तलाशने में लगे रहते है। डाक्टर्स डे पर कोरोना संक्रमितों को उपचार देने वाले स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और चिकित्सक सेल्यूट के हकदार हैं।

एसीएमओ डा. यशवीर सिंह

डीएम और सीएमओ ने एसीएमओ डा. यशवीर सिंह को कोरोना का नोडल अधिकारी बनाया हुआ है। उनके कंधों पर समूचे जिले की जिम्मेदारी डाली गई है। कोरोना संक्रमितों को उपचार के लिए कोविड अस्पतालों में भर्ती कराने और शासन को रिपोर्ट भेजने तक की उन्हें जिम्मेदारी सौंपी गई है। साथ ही कोविड अस्पतालों की सभी व्यवस्थाएं भी उन्हीं के कंधों पर टिकी हुई है। डा. यशवीर सिंह भी अपनी इस जिम्मेदारी को बखूबी निभा रहे है। वे दिन हो या रात, हर समय कोरोना वायरस की रोकथाम के उपाय करने में ही लगे रहते है।

डा. विभाष राजपूत

सीएचसी बागपत के अधीक्षक डा. विभाष राजपूत को अग्रवाल मंडी टटीरी के कोविड अस्पताल की जिम्मेदारी सौंपी गई है। कोरोना रोगियों को उपचार देने के साथ बागपत और क्षेत्र के गांवों में सैंपलिंग कराने की भी उन्हीं की जिम्मेदारी है। वे अपनी इस जिम्मेदारी का निर्वाह सच्ची कृत्वय निष्ठा के साथ कर रहे है। दिन-रात वे कोरोना रोगियों को उपचार देने के साथ संदिग्धों के सैंपल लेने में लगे रहते है। उन्हें अपने परिजनों से मिले 3 माह से अधिक का समय बीत चुका है। केवल फोन पर ही वे पत्नी और बच्चों से बात करते है। उनकी मेहनत का ही नतीजा है कि बागपत का मुगलपुरा मोहल्ला सोमवार की रात कंटेंटमेंट जोन से विमुक्त हो गया।

सीएमओ डा. आरके टंडन

कोरोना वायरस से जहां बागपत के पड़ोसी जिले मेरठ, हापुड, गाजियाबाद और शामली में भयावह स्थिति बनी हुई है, वहीं बागपत में कोरोना संक्रमित तो मिल रहे है, लेकिन यहां स्वस्थ्य होने वाले रोगियों की तादाद काफी अधिक है। यह सब सीएमओ डा. आरके टंडन के नेतृत्व से सफल हुआ है। वे हर समय मुख्यालय पर मौजूद रहते है और जिले के लोगों को कोरोना से बचाने के प्रयास करते रहते है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Doctor 39 s Day Government doctors giving treatment to corona infected by putting their lives at stake