DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बदायूं › नहीं मिला 50 हजार का इनामी यशपाल, अंकित का भी सुराग नहीं
बदायूं

नहीं मिला 50 हजार का इनामी यशपाल, अंकित का भी सुराग नहीं

हिन्दुस्तान टीम,बदायूंPublished By: Newswrap
Mon, 31 May 2021 03:31 AM
नहीं मिला 50 हजार का इनामी यशपाल, अंकित का भी सुराग नहीं

बदायूं। संवाददाता

जिले में जहरीली शराब से तीन लोगों की मौत समेत एक युवक की आंखों की रोशनी जाने के मामले का आरोपी यशपाल अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। इस घटना को दो महीने बीतने जा रहे हैं। यशपाल पर 50 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया जा चुका है लेकिन वह हत्थे नहीं चढ़ सका है। ठीक इसी तरह इस्लामनगर इलाके में जहरीली शराब की सप्लाई का मुख्य आरोपी अंकित भी पकड़ में नहीं आ सका है। सफेदपोशों की सरपरस्ती के कारण जहर के ये सौदागर अंडरग्राउंड हो चुके हैं।

मूसाझाग इलाके तिगुलापुर गांव में प्रधानी चुनाव से पहले मतदाताओं को रिझाने के लिए जहरीली शराब परोस दी गई थी। इसे पीने के बाद तीन लोगों की मौत हो गई थी, जबकि अमरसिंह नाम के युवक की आंखों की रोशनी चली गई थी। इस मामले में प्रत्याशी समेत ठेके के सेल्समैन आदि पर मुकदमा लिखा गया। क्यूआर कोड के आधार पर पुरानी चुंगी स्थित ठेके पर छापामारी हुई तो पता लगा कि वहां का अनुज्ञापी समेत उसका बेटा और यशपाल नाम का शातिर जहरीली शराब के सप्लायर थे। सभी के खिलाफ मुकदमा लिखा गया था।

इसके बाद यशपाल फरार हो गया। उसकी गिरफ्तारी पर पहले 25 हजार का इनाम रखा गया, जबकि बाद में इनाम की धनराशि बढ़ाकर 50 हजार रुपये कर दी गई। इसी तरह सहसवान नगर में रहने वाला अंकित नाम का सौदागर भी हाथ नहीं आया है। इस्लामनगर पुलिस ने उसके सहयोगियों को तो जहरीली शराब समेत पकड़ लिया लेकिन अंकित कहां है, इसका कोई पता नहीं लग सका है।

नहीं लौटी आंखों की रोशनी

अमर सिंह का अलीगढ़ में काफी इलाज कराया गया लेकिन उसकी आंखों की रोशनी नहीं लौट सकी है। परिजन उसे पिछले दिनों घर ले आए। परिवार में पत्नी के अलावा तीन साल की बेटी और चार महीने का एक बेटा है। दो भाइयों के बीच सात बीघा जमीन है। इसी पर खेती किसानी करके इस परिवार का भरण-पोषण होता है।

संबंधित खबरें