DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बदायूं  ›  वेबसाइट बंद, मंडी में भटक रहे किसान

बदायूंवेबसाइट बंद, मंडी में भटक रहे किसान

हिन्दुस्तान टीम,बदायूंPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:50 AM
वेबसाइट बंद, मंडी में भटक रहे किसान

समर्थन मूल्य योजना के तहत गेहूं खरीद को लेकर खोली गई पंजीकरण वाली बेवसाइट समय से पहले बंद हो गई है। 15 जून तक गेहूं खरीद होनी है लेकिन बेवसाइट बंद है। जिसकी वजह से किसानों के न तो पंजीकरण हो रहे हैं न ही गेहूं तौल हो रही है। किसान भटकते हुये वापस लौट रहे हैं।

जिले में 120 क्रय केंद्रों पर किसानों से गेहूं खरीद चल रही है, मगर अब गेहूं खरीद केवल नाम की रह गई है। सोमवार को 2370 एमटी ही किसानों से गेहूं की खरीद की गई है। इससे साफ है कि किसानों की गेहूं खरीद थम चुकी है इसका सबसे बड़ा कारण किसानों के पंजीकरण न होना है। किसान मंडियों में भटक रहे हैं और पंजीकरण नहीं हो रहा है इसीलिये गेहूं की तौल नहीं करा पा रहे हैं। बेवसाइट बंद होने से पूरे दिन मंडियों में गुजार रहे हैं। शहर की मंडी के अलावा दातागंज, बिसौली, बिल्सी, सहसवान के क्रय केंद्रों पर किसान परेशान भटकता दिखा है।

इंतजार में दिन गुजार रहे किसान

शहर की मंडी समिति पर क्रय केंद्र प्रथम पर किसानों की लंबी लाइनें लगी हैं। दर्जनों किसान ट्रैक्टर-ट्रालियां लेकर खड़े हैं और गेहूं तौल के इंतजार में दिन गुजार रहे हैं। किसानों का कहना है कि पंजीकरण बंद हो गये हैं, अब उन्हीं किसानों का गेहूं खरीदा जा रही है जिनके पंजीकरण हो चुके हैं। पंजीकरण पर ही बीस-बीस क्विंटल करके गेहूं को बेंच रहे हैं। किसानों का कहना है कि कई दिन हो गये इसके बाद भी इंतजार करना पड़ रहा है।

सेटिंगबाजी करने में लगे माफिया

शहर की नवीन मंडी समिति स्थित क्रय केंद्र दो पर किसानों की कतार कम है लेकिन गेहूं तौल कराने वालों की भीड़ ज्यादा है। किसानों का सहारा लेकर तमाम किसान सेटिंग करा रहे हैं और गेहूं की तौल करा रहे हैं। यहां किसानों ने बताया कि माफिया हावी हैं और केंद्र प्रभारियों से सेटिंग कर रखी है। किसानों को इंतजार कराया जा रहा है और व्यापारियों का सेटिंग से गेहूं तौल हो रहा है। यहां बताया कि कुछ किसान तो पांच दिन से इंतजार में हैं कि गेहूं की तौल हो जाये।

माफियाओं के आगे हार गया सिस्टम

बिल्सी l गल्ला मंडी समिति स्थित गेहूं क्रय केंद्रों पर माफियाओं के आगे पूरा सिस्टम हार गया है l माफिया और बिचौलिया हावी हैं l क्रय केंद्र पर आने वाले किसानों की कोई सुनने को तैयार नहीं है सेंटर इंचार्ज अक्सर नदारद रहते हैं l दो दिन पहले देर रात तक सेंटर पर गेहूं की तौल हुई थी l चर्चा थी कि व्यापारियों का गेहूं खरीदा गया था l एसडीएम ने भी इस मामले को गंभीर माना l फिर भी केंद्र पर माफिया राज खत्म नहीं हुआ है l मनकापुर और मंडी समिति का क्रय केंद्रों पर किसान परेशान चल रहे हैं। सोमवार को केंद्र पर मिले कई किसानों ने सीधे आरोप लगाया कि उनका उत्पीड़न हो रहा है।

किसानों का नहीं तौला जा रहा गेहूं

सहसवान। मंडी समिति के आरएफसी गेहूं खरीद केंद्र पर उन्हीं किसानों का गेहूं लिया जा रहा है जिनका अब तक पंजीकरण हो चुका है। इतना ही नहीं प्रत्येक किसान का 20 क्विंटल ही गेहूं लिया जा रहा है। किसानों ने बताया बेवसाइट बंद करने से परेशान हो गये हैं, पंजीकरण करा नहीं पाये हैं अब गेहूं कहां ले जायें। केंद्र प्रभारी कह रहे हैं पंजीकरण हो नहीं सकता और गेहूं नहीं तौला जायेगा। किसान परेशान हैं क्रय केंद्र के बाहर सोचा विचारी में ही समय गुजार रहा है।

पंजीकरण न होने से व्यापारियों को बेच रहे गेहूं

उझानी। सोमवार को उझानी मंडी समिति परिसर में खोले गए क्रय केंद्रों पर दोपहर 12 तक कोई भी इंचार्ज मौजूद न होने से गेहूं बेचने आए किसान मायूस थे। वह अपनी बात किससे कहें वहां किसी के न मिलने पर थक हार कर गेहूं की ट्राली लेकर वापस गांव लौट गए। किसानों ने क्रय प्रभारियों व संचालकों पर मनमानी का भी आरोप लगाया। बुटला के किसान अभिमन्यु सिंह ने बताया कि क्रय केंद्रों पर बिचौलियों का गेहूं आसानी से तौला जा रहा है। किसानों के रजिस्ट्रेशन पहले से ही बंद कर दिए गए हैं।

संबंधित खबरें