DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बदायूं  ›  ताकती रह गयी पुलिस, दर्जनों पशु ले गये तस्कर
बदायूं

ताकती रह गयी पुलिस, दर्जनों पशु ले गये तस्कर

हिन्दुस्तान टीम,बदायूंPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 03:51 AM
ताकती रह गयी पुलिस, दर्जनों पशु ले गये तस्कर

बारिश से पहले जहां एक ओर डेरे-तंबू लगाकर रहने वालों को अपने जिलों की सरहद से खदेड़ने का निर्देश डीजीपी द्वारा प्रदेशभर के पुलिस अधिकारियों को दिया गया है। वहीं जिले में तीन दिन तक जंगल में ठहरे तस्करों ने वाहनों में लादकर कसाईखानों को भेज दिया। तस्करों की इस टोली ने दिनरात यहां अधिक से अधिक पशुओं को एकत्र कर लिया। जहां जंगल में पशुओं की धरपकड़ की गई, वहीं रात के वक्त शहर के भीतरी हिस्सों में घूमने वाले बेसहारा पशुओं को भी उठाया गया। हैरानी यह है कि पुलिस को बड़े स्तर पर हुई गड़बड़ी की भनक तक नहीं लगी।

शहर समेत आसपास देहात इलाकों में घूमने वाले प्रतिबंधित पशुओं को तीन दिन यहां के जंगलों में ठहरा एक गिरोह पकड़कर अपने साथ ले गया। कोई इसे राजस्थानी गिरोह बता रहा है तो किसी का कहना है कि पड़ोसी जिलों के तस्कर राजस्थानी वेशभूषा में यहां पहुंचे और बिसौली रोड, बदायूं बाईपास, मेडिकल कालेज के आसपास समेत बिल्सी रोड से पशुओं को बांधकर अपने साथ ले गए।

महिलाएं भी गिरोह में शामिल

बताया जाता है कि गिरोह में महिलाएं भी शामिल थीं। महिलाएं देहात इलाकों में घूमकर कहीं खाना मांग रही थीं तो कहीं जरूरत के लिए कच्चा अनाज आदि मांगती दिख रही थीं। इनमें कुछ महिलाएं सिरकी से बने सूप और खिलौने आदि बेचती भी देखी गईं। कुल मिलाकर महिलाएं रिहायशी इलाकों में घूमकर आने व जाने के रास्ते तलाशने के साथ ही पशुओं की रैकी करती थीं और उनके इशारे पर गिरोह के सदस्य बाद में संबंधित स्थानों से पशु पकड़कर ले जाने लगे।

ये थी वेशभूषा

गिरोह में शामिल पुरुष सिर पर रंगीन गमछा बांधे थे और हाथ में लाठी लेकर चलते थे। जबकि वहीं महिलाएं घांघरा के साथ कमीज पहने थीं। हाथों व गले में आभूषण भी पहनती थीं। बताया जा रहा है कि यह लोग सिविल लाइंस के गांव भगवतीपुर में गांव से बाहर जंगल में एक बाग में दो दिन तक रुके और पशुओं को पकड़-पकड़कर भेजते रहे। इसके बाद एक दिन बाईपास किनारे बाग में रुके। ग्रामीणों की मानें तो राजस्थानी लोग हर वर्ष इस इलाके से निकलकर जाते हैं लेकिन इस बार राजस्थानी रूप में तस्कर रुके और पशुओं को पकड़कर ले गये हैं।

शहर के तस्करी मोहल्लों पर जिम्मेदारों की नजर

पशु तस्करी को लेकर जिम्मेदार अफसरों की शहर के तस्करों पर नजर टिकी है वहीं अंदरखाने पशु तस्करों में खलबली मची है। शहर के मोहल्ला कबूलपुरा, नई सराय, गद्दी चौक, खंडसारी, खेड़ा नवादा इलाके में पुराने नामचीन पशु तस्कर रहते हैं। जिन पर पुलिस ही नहीं प्रशासन की भी नजरें टिकी हैं। बस पूरी हकीकत खंगालने के बाद प्रशासन बड़ी कार्रवाई कर सकता है।

संबंधित खबरें