DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश बदायूंअपना नहीं करीबी है गुप्ता दंपति का कातिल, करीब पहुंची सीबीआई

अपना नहीं करीबी है गुप्ता दंपति का कातिल, करीब पहुंची सीबीआई

हिन्दुस्तान टीम,बदायूंNewswrap
Thu, 08 Jul 2021 03:41 AM
अपना नहीं करीबी है गुप्ता दंपति का कातिल, करीब पहुंची सीबीआई

बदायूं। संवाददाता

शहर में हुए गुप्ता दंपति हत्याकांड का खुलासा करने के सीबीआई टीम काफी हद तक करीब पहुंच चुकी है। सीबीआई ने एक और ब्लड सैंपल लिया है। यह सैंपल स्थानीय व्यक्ति या किसी करीबी का नहीं बल्कि गैर जिले का बताया जाता है। घटनास्थल पर मिले खून के निशानों से इस कातिल के सैंपल का काफी हद तक मिलान हो चुका है। घटना की वजह तभी स्पष्ट होगी, जब कातिल सीबीआई के शिकंजे में होगा।

दंपति हत्याकांड के खुलासे को लेकर सीबीआई पिछले कई साल से जुटी हुई है। साल 2016 से सीबीआई टीम इस हत्याकांड के खुलासे में लग गई थी। जहां टीम ने संपत्ति की खातिर हत्या के पहलू पर जांच करते हुए मकान की वैल्यूशन आदि निकलवाई। दंपति का लॉकर तोड़ा गया, जबकि उनके बैंक खाते आदि भी खंगाले गए। इस पहलू पर जांच में कोई नतीजा नहीं निकला।

मोबाइल का पता नहीं

सीबीआई ने मोबाइल के आधार पर घटना का वर्कआउट करने की कोशिश की लेकिन सदर कोतवाली से मोबाइल नदारद हो गया। दोहरा हत्याकांड था और पुलिस हड़बड़ी में थी। ऐसे में पुलिस मोबाइल कहीं भूल गयी, हालांकि सीबीआई ने इस मामले को तूल देने की जगह अलग पहलू पर जांच शुरू कर दी।

सैंपल का उठाया पहलू

सीबीआई ने घटनास्थल पर मिले ब्लड सैंपल के आधार पर जांच शुरू की तो पहले एक महिला व एक पुरुष के सैंपल मिले। जबकि बाद में इलाकाई लोगों समेत करीबियों की सैंपलिंग की गई तो उसमें ज्यादा हद तक कामयाबी नहीं मिल सकी, जबकि एक सैंपल का लगातार मिलान होता दिखा। काफी हद तक कामयाबी मिलते देख टीम ने गैर जिले के एक व्यक्ति का सैंपल प्रिजर्व कर लिया। आने वाले दिनों मे उसकी रिपोर्ट मिलेगी और इसी आधार पर टीम खुलासा कर सकती है।

ये था मामला

सदर कोतवाली इलाके के मोहल्ला कटरा ब्राह्मपुर निवासी रिटायर्ड इंजीनियर विजेंद्र गुप्ता व उनकी पत्नी शन्नो की लाश आठ अप्रैल 2015 की रात घर में सड़ी हुई हालत में मिली थीं। मुकदमा अज्ञात के खिलाफ लिखाया गया, जबकि बाद में प्रदेश सरकार की पैरवी पर जांच सीबीआई को सौंपी गई। तभी से सीबीआई टीम इस मामले की जांच करते हुए असली कातिल तक पहुंचने की कोशिश में है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें