DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नौकरी फंसती देख अफसरों ने मीटर परीक्षक को किया निलंबित

नौकरी फंसती देख अफसरों ने मीटर परीक्षक को किया निलंबित

चर्चित मोबाइल टॉवर पर चाइना मेड मीटर से बिजली चोरी के मामले में कार्रवाई का दौर चल रहा है। इस प्रकरण में एक बार फिर से अधिकारियों ने अपनी गर्दन बचाने को टीजी परीक्षण पर निलंबन की कार्रवाई कर दी है। मीटर बदलने के बाद सीलिंग प्रमाण पत्र जारी करने में दोषी मानते हुए अधिशासी अभियंता ने यह कार्रवाई की है।

इससे पूर्व इस मामले में दो लोगों पर संबंधित थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई जा चुकी है। मामला हजरतपुर में संचालित एक मोबाइल कंपनी का टॉवर का है। वहां पर बिजली विभाग द्वारा दो मीटर लगाए गए थे। जिसमें एक इलेक्ट्रॉनिक और चाइना मेड था। बीते 18 मई को इलेक्ट्रॉनिक मीटर में आग लग गई। इससे वह जल गया था। ऐसे में टॉवर पर कार्यरत टेक्नीशियन आशीष ने विभाग की हेल्प लाइन 1912 पर शिकायत दर्ज करा दी। इसके बाद विभाग अधिशासी अभियंता मीटर रामदास आर्या, जूनियर इंजीनियर राजीव कुमार, एसडीओ बिजली दातागंज और एई मापक द्वारा मौके पर जांच की गई और रिपोर्ट सौंप दी। रिपोर्ट के आधार पर विभाग द्वारा नया मीटर लगा दिया और पोल पर लगे चाइना मेड मीटर को उतारकर ले गए। नया मीटर लगाने के बाद कर्मचारियों द्वारा टॉवर टेक्नीशियन को रसीद भी दी गई।बीते दिनों बरेली में मंडल के सभी अधिकारियों के साथ विभाग के एमडी संजय गोयल ने बैठक ली। जिसमें उनके पास मोबाइल टॉवर पर चाइना मेड मीटर लगाकर बिजली चोरी का मामला पहुंचा।

तो उन्होंने अधिशासी अभिंयता के साथ ही अधीक्षण अभियंता मधुप श्रीवास्तव से इस संबंध पूछा तो वे कुछ भी बताने की जगह बगले झांकने लगे। इस पर एमडी ने अधिशासी अभियंताओं के साथ ही अधीक्षण अभियंता पर कार्रवाई करने की चेतावनी दे डाली। एमडी के तेवर सख्त होने के बाद अधिकारी एक बार फिर से मोबाइल टॉवर पर पहुंच गए। जांच के बाद अधिकारियों ने थाना हजरतपुर में अधिशासी अभियंता द्वारा मोबाइल टॉवर टेक्नीशियन आशीष और मीटर रीडर दुष्यंत दक्ष पर विभाग से साक्ष्य छुपाने और गुमराह करने के आरोप में एफआईआर दर्ज करा दी है। अब इस प्रकरण में विभाग द्वारा टीजी परीक्षण नवल किशोर को निलंबित कर दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Suspended Tg test release of action in mobile tower case