DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीनी मिल नहीं कराएंगी रिजेक्ट वैरायटी का सर्वे

चीनी मिल नहीं कराएंगी रिजेक्ट वैरायटी का सर्वे

गन्ने की बुवाई कर रहे किसानों को चीनी मिलों के फरमान पर गौर करने की जरूरत है। अगर किसानों ने फरमान पर गौर नहीं किया तो परेशान हो सकते हैं। मिलों ने किसानों से रिजेक्ट वैरायटी के गन्ने की बुआई न करने का आह्वान किया है।

दि किसान सहकारी चीनी मिल शेखूपुर और यदु शुगर मिल बिसौली ने गन्ना किसानों से कहा है कि वह रिजेक्ट वैरायटी का गन्ना न बोएं। इस वैरायटी के गन्ने का न तो मिल द्वारा सर्वे कराया जाएगा। न ही कि पेराई के दौरान चीनी मिल गन्ने की खरीदारी करेगी। चीनी मिल सिर्फ अरली वैरायटी का गन्ना खरीदकर पेराई करेंगी। ऐसे में गन्ना किसान भूलकर भी रिजेक्ट वैरायटी का गन्ना न बोएं, अन्यथा सप्लाई के लिए परेशान हो जाएंगे।

चीनी मिलें रिजेक्ट वैरायटी का गन्ना खरीदेगी नहीं तो किसानों को लागत लगाने के बाद भी सस्ते भाव में कोल्हुओं पर बिचौलियों के हाथ बेचना पड़ेगा। शेखूपुर चीनी मिल के जीएम वीरेंद्र कुमार ने बताया कि चीनी मिल रिजेक्ट वैरायटी का गन्ना नहीं खरीदेगी, न ही सर्वे कराएगी। ऐसे में किसान सोच समझकर गन्ने की बुवाई करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sugar mills will not buy sugarcane rejection