Six members of the Bavaria gang involved in murder and robbery - हत्या व डकैती में शामिल बावरिया गिरोह के छह सदस्य पकड़े DA Image
18 नबम्बर, 2019|9:31|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हत्या व डकैती में शामिल बावरिया गिरोह के छह सदस्य पकड़े

हत्या व डकैती में शामिल बावरिया गिरोह के छह सदस्य पकड़े

कादरचौक थाना क्षेत्र के गांव प्रेमीनगला में डकैती के दौरान हुई हत्या के मामले का खुलासा किया है। पुलिस ने घटना को अंजाम देने वाले बावरिया गिरोह के छह शातिर बदमाशों को असलाह एवं लूट के माल सहित गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार बदमाशों में दो महिलाएं भी शामिल है। जिन्हें पुलिस ने कोर्ट के समक्ष पेश करने के बाद जेल भेज दिया है। एसएसपी अशोक कुमार त्रिपाठी के निर्देशन में संगीन घटनाओं के शीघ्र खुलासा अभियान के तहत रविवार को कादरचौक थानाध्यक्ष कादरचौक हरिभान सिंह राठौर के नेतृत्व में पुलिस टीम ने प्रेमीनगला में डकैती के दौरान हुई फौजी के भाई की हत्या का खुलासा किया है। एसओ के मुताबिक वादी मुकदमा मधुकर पुत्र हरीश चंद्र ने घर में से लूटपाट और भाई की हत्या के मामले में अज्ञात अभियुक्तगणों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। जिसमें मौके से एक बदमाश को पकड़ लिया गया था। पुलिस टीम ने पकड़े गए बदमाश की पूछताछ के आधार पर सुरागरसी जारी रखी। जिसमें बदमाशों को पकड़ने की सफलता हाथ लगी। मुखबिर की सूचना पर रहीसी नगला तिराहा से उक्त घटना को अंजाम देने वाले बावरिया गिरोह के दो महिलाओं सहित छह बदमाश निवासीण उसावां गिरफ्तार किए गए। जिनकी तलाशी के दौरान पुलिस को असलहे भी बरामद किए है। रोजी रोटी के लिए करते अपराधपुलिस की पूछताछ में पकड़े गए बदमाशों ने बताया, वह अपनी रोजी-रोटी के लिए तरह-तरह के अपराध करते आ रहे है। उनके द्वारा जनपद तथा गैरजनपद में भी घटनाएं की गई है। बरामद सामानपुलिस ने पकड़े गए बदमाशों से एक अंगूठी, एक जोड़ी पाजेव सफेद धातु, दो तमंचा देशी, चार कारतूस, एक कार व एक बाइक बरामद की है। गिरफ्तार बदमाश कालीचरन उर्फ कल्लू उर्फ काला उर्फ कल्लुआ पुत्र मानपाल, अन्नू उर्फ सोनू पुत्र सुनील बावरिया, मानपाल पुत्र चन्द्रपाल, कुलदीप पुत्र सुनील, अनारकली पत्नी मानपाल, दिया देवी पत्नी कालीचरन निवासीगण हाल में कस्बा व थाना उसावां है। कालीचरन का अपराधिक इतिहासपुलिस के मुताबिक गिरफ्तार कालीचरन कुख्यात किस्म का बदमाश है। गिरफ्तार अभियुक्तों में से कालीचरन का काफी लंबा चौड़ा अपराधिक इतिहास है। बदमाश पर एटा और बदायूं में करीब आठ संगीन मुकदमें दर्ज है। जिनमें एटा के थाना पिलुआ में लूट और जानलेवा हमले के तीन, व वहां की सदर कोतवाली में एक और बिसौली में एक व कादरचौक में तीन मुकदमें दर्ज है।यह थी वारदातकादरचौक थाना क्षेत्र के गांव प्रेमी नगला में निवासी क्रय-विक्रय केंद्र के उपसभापति नेत्रपाल और ग्रामीण गंगा सहाय के घर सहित फौजी प्रेमपाल के घर को बदमाशों ने निशाना बनाया था। जहां से नगदी सहित लाखों के जेवरात लूट लिए थे।

फौजी के घर वारदात करने के दौरान उसका बड़ा भाई हरीश शाक्य की नींद खुल गई थी। तभी हरीश शाक्त ने एक बदमाश को जेवरात से भरा बक्सा ले जाते हुए दबोच था। इससे तिलमिलाए बदमाश ने उसे गोली मार दी। जिससे उसकी मौत हो गई थी। वहीं चीखपुकार होने के दौरान ग्रामीणों ने जतिन कश्यप पुत्र लक्ष्मण कश्यप निवासी जिला बुलंदशहर थाना अनूपशहर के गांव भेरिया हरिद्वारपुर नाम के बदमाश को पकड़कर पुलिस के सुपुर्द कर दिया था। जिसने अपने भागे साथी का नाम कमल पुत्र नेत्रपाल थाना व कस्बा कलान जिला शाहजहांपुर बताया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Six members of the Bavaria gang involved in murder and robbery