DA Image
17 अक्तूबर, 2020|12:50|IST

अगली स्टोरी

बदायूं में काले हिरण के जरिये पर्यटन की तलाश

बदायूं में काले हिरण के जरिये पर्यटन की तलाश

जिला प्रशासन काले हिरण (ब्लैक वक) के माध्यम से पर्यटन की तलाश के प्रयास में हैं। इससे जिले से होकर गुजरने वाले प्रस्तावित गंगा एक्सप्रेस-वे से भी लाभ मिलेगा। इन दिनों वन विभाग द्वारा हिरणों के संरक्षण को लेकर प्रोजक्ट तैयार कर रहा। वन विभाग के लिए गणना में सबसे ज्यादा हिरण बिसौली और दातागंज रेंज में मिले हैं। यह हाईवे भी इन इलाकों से छूता हुआ गुजरेगा।

जिले में काले हिरण (ब्लैक वक), चीतल के संरक्षण के लिये डीएम कुमार प्रशांत की पहल जल्द रंग लायेगी। इसके जरिये पर्यटक भी मिल सकते हैं। क्योंकि बिसौली और दातागंज में सबसे ज्यादा काले हिरण हैं। इन्ही दोनों तहसीलों से होकर मेरठ से प्रयागराज तक बनाये जाने वाला 628 किलोमीटर लंबा गंगा एक्सप्रेस-वे होकर गुजरेगा। ऐसे में इधर से गुजरने वाले लोगों के जरिये पर्यटन को बढ़ावा मिल सकता है।

फिलहाल काले हिरणों की गणना पूरी हो चुकी है। छह सितंबर से 16 सितंबर तक चली गणना में वन विभाग को बदायूं, बिसौली, दातागंज, सहसवान रेंज में कुल 470 काले हिरण मिले हैं। जिनमें सबसे ज्यादा हिरण 192 हिरण बिसौली रेंज में शामिल हैं। दातागंज रेंज में काले हिरणों की संख्या 165 है। हिरणों की गणना फाइनल होने के बाद डीएफओ ईशा तिवारी द्वारा काले हिरणों के संरक्षण के लिए प्रोजक्ट तैयार किया जा रहा है।

प्रोजक्ट कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है। डीएफओ के माध्यम से अक्टूबर के प्रथम सप्ताह तक तैयार प्रोजक्ट वन संरक्षक बरेली मंडल बरेली जावेद अख्तर को सौंपा जायेगा। वन संरक्षक द्वारा प्रस्ताव वाइल्ड लाइफ वार्डन मुख्यालय भेजा जायेगा। यहां से संरक्षण के लिए प्रोजक्ट स्वीकृति होने के बाद आगे की प्रकिया शुरू होगी। वन विभाग द्वारा प्रोजक्ट की फाइल डीएम को भी उपलब्ध कराई जायेगी।

बाद में तलाशी जायेगी भूमि : हिरणों के संरक्षण के लिए प्रोजक्ट की स्वीकृति होने के बाद भूमि तलाश की जाएगी। वैसे माना जा रहा है कि हिरणों के संरक्षण के लिए जो प्रोजक्ट तैयार होगा वह गंगा एक्सप्रेस वे को ध्यान में रखते हुये होगा। जिससे गंगा एक्सप्रेस-वे से होकर गुजरने वाले लोग पर्यटक के रूप में तैयार प्रोजक्ट को देख सकें। संरक्षण प्रोजक्ट को अगर बेहतर ढंग से तैयार किया गया तो लोगों के रोजगार संग जिले में काले हिरण के जरिये पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

जिले में काले हिरण की अच्छी खासी संख्या है। वन विभाग से गणना करायी, प्रोजक्ट बनाने को कहा है। प्रोजेक्ट कुछ ऐसा होगा कि हाईवे से गुजरने वाले लोग इन्हें देखने यहां कुछ घंटों के लिये रुकें। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा साथ ही स्थानीय रोजगार भी बढ़ेगा। कोशिश यही रहेगी इसे शासन से मंजूरी मिले।

कुमार प्रशांत, डीएम

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Search for tourism through black deer in Badaun