DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क की मरम्मत न होने से राहगीर परेशान

सड़क की मरम्मत न होने से राहगीर परेशान

प्रदेश की योगी सरकार ने सभी विभागों को 15 जून तक सड़क गड्ढा मुक्त करने का आदेश दिया है। लेकिन अभी तक सड़क पर काम शुरु नहीं हो पाने से योगी का आदेश हवाई साबित होता दिख रहा है। इसमें सबसे बड़ा रोडा बजरी बजरपुर मंहगा होना है। जिससे ठेकेदारों को सड़क बनबाना घाटे का सौदा दिखाई दे रहा है। उझानी वाईपास से बदायूं बिजनौर हाइवे को जोड़ने वाली सड़क जो कि मानकपुर रौली बरसुआ होती हुई बरायमय खेड़ा जाती है। सड़ककी गई वर्षो से मरम्मत न होने से बरायममय खेड़ा से उझानी वाईपास तक सड़क पूरी तरह उखड़ गई है। मानकपुर से रौली के मध्य दो किलोमीटर में तो सड़क के कई स्थानों पर तो अवशेष भी नहीं रहे हैं। पीडब्लूडी विभाग ने सड़क की मरम्मत का टेंडर भी कर दिया है। उसके बाद भी मरम्मत का कार्य शुरु नहीं हो सका है। जिससे प्रभावित ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। बरायमय खेड़ा के प्रधानातिावीर सिंह का कहना है कि गांव से उझानी तक सड़क टूटी होने के कारण बरायमयखेड़ा, लऊ आ, बरसुआ के लोग अपना अनाज तक उझानी मंडी लेकर नहीं आ पाते हैं। वहीं आवश्यकता पड़ने पर नजदीक होने के बाद उझानी के स्थान पर बिल्सी और बदायूं के बाजार से खरीदारी करते हैं। योगी सरकार ने जब प्रदेश की सभी सड़के 15 जून तक गड्ढा मुक्त करने का आदेश जारी किया तो इलाके लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई। लेकिन अभी तक सड़क की मरम्मत का कार्य शुरु नहीं होने से उम्मीदों पर पानी फिरता दिख रहा है। लोक निर्माण विभाग के ठेकेदार ने बताया कि सरकार ने ओवरलोड बंद कर दिया है जिससे हल्द्वानी व आगरा राजस्थान से आने वाले पत्थर बजरी के रेट दो गुने से भी अधिक हो गए हैं। इसलिए सड़कों की मरम्मत का कार्य नहीं हो पा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Road worried due to lack of repair