DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बदायूं की बेटी सुरभि की मुंबई विमान हादसे में मौत

बदायूं की बेटी सुरभि की मुंबई विमान हादसे में मौत

1 / 2मुंबई के घाटकोपर इलाके में क्रैश हुए चार्टर्ड प्लेन में बदायूं की बिटिया ने भी जान गंवाई है। शहर के मोहल्ला ब्राह्मपुर में रहने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता सूर्यप्रकाश गुप्ता की बेटी सुरभि भी इस हादसे का...

बदायूं की बेटी सुरभि की मुंबई विमान हादसे में मौत

2 / 2मुंबई के घाटकोपर इलाके में क्रैश हुए चार्टर्ड प्लेन में बदायूं की बिटिया ने भी जान गंवाई है। शहर के मोहल्ला ब्राह्मपुर में रहने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता सूर्यप्रकाश गुप्ता की बेटी सुरभि भी इस हादसे का...

PreviousNext

मुंबई के घाटकोपर इलाके में क्रैश हुए चार्टर्ड प्लेन में बदायूं की बिटिया ने भी जान गंवाई है। शहर के मोहल्ला ब्राह्मपुर में रहने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता सूर्यप्रकाश गुप्ता की बेटी सुरभि भी इस हादसे का शिकार हुई है। सुरभि एयरक्राफ्ट मेंटीनेंस इंजीनियर थी और मुबंई की इंडिमार कंपनी में कार्यरत थी। अभी दो सप्ताह पहले ही पूरा परिवार साथ में छुट्टियां बिताकर लौटा था। सुरभि की मौत की खबर मिलने के बाद पूरे परिवार में कोहराम मच गया। पिता व माता आननफानन में बेटी की ससुराल सोनीपत व भाई मुंबई को रवाना हो गए।

गुरुवार को किंग एयर सी- 90 एयरक्राफ्ट यूवाई एविएशन प्राइवेट कंपनी के चार्टर्ड विमान में सुरभि अपने साथियों के साथ ट्रायल के लिए सवार हुई थी। सुरभि के परिवार में उनके पिता-मां और दो भाई हैं। एक भाई मर्चेंट नेवी और एक भाई टेलीकॉम कंपनी में कार्यरत है।

महाराष्ट्र सरकार ने किया था सम्मानित

एयरक्राफ्ट कंपनी में सुरभि ने पहली महिला इंजीनियर के तौर पर ज्वाइन किया था। यूपी की पहली महिला द्वारा एयरक्राफ्ट कंपनी में इंजीनियर के पद पर कार्य करने के लिए महाराष्ट्र सरकार द्वारा उन्हें बीते दिनों सम्मानित किया गया था। उन्हें प्लेन में कोई भी खराबी होने पर तेजी से सही करने की महारत हासिल थी।

बीते वर्ष फरवरी में हुई थी शादी

सुरभि का वैवाहिक जीवन बीते वर्ष फरवरी में ही शुरू हुआ था। उनके पति बृजेश कुमार पायलट हैं और मौजूदा समय में चेन्नई में तैनात हैं। दोनों की मुलाकात एयरपोर्ट पर ही हुई थी जिसके बाद दोस्ती हुई और आखिर में दोनों ने एक-दूसरे का जीवन भर साथ देना फैसला लिया। दोनों के परिवारों ने बिना किसी संकोच के विवाह संपन्न कराया। अभी बीते दिनों दोनों ही परिवारों ने एक साथ छुट्टियां मनाईं। जिसकी फोटो को सोशल मीडिया पर शेयर कर अपने सभी रिश्तेदारों को इस बारे में जानकारी दी थी।

ऊंचाई से प्यार के चलते ज्वाइन की थी एयरक्राफ्ट कंपनी

सुरभि को बचपन से ही ऊंचाई बहुत पसंद थी। इसलिए पढ़ाई करने के बाद इंजीनियरिंग कर मुंबई में एयरक्राफ्ट कंपनी को ज्वाइन किया। विमानों में कमी आने के बाद उनको दूर करने और ट्रायल पर जाने में उन्हें काफी आनंद आता था। अपने बचपन के सपने को पूरा करने में उनके पिता सूर्य प्रकाश गुप्ता ने भी उनका पूरा साथ दिया और उनकी पढ़ाई के दौरान उन्हें पूरा सपोर्ट किया। वह अपने माता-पिता के बेहद नजदीक थीं। घर से दूर नौकरी करने के दौरान रोजाना घंटो माता-पिता से बात करती और अपने दिल की बात कहतीं। उनके फोन आने का इंतजार उनकी मां रोजाना करती थीं और तब तक फोन नहीं आ जाता था तब तक परेशान हो उठती थीं।

शिशु मंदिर और केदारनाथ से की पढ़ाई

सुरभि ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई सरस्वती शिशु मंदिर से और इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई केदारनाथ महिला इंटर कॉलेज से पूरी की। वह बचपन से ही पढ़ाई में बेहद होशियार रही थीं। स्कूल में सभी प्रतियोगिताओं में भाग लेना और सर्वाधिक अंक प्राप्त करने पर उन्हें कई बार सम्मानित किया गया। उनके बचपन के जीते उपहार आज भी उनके घर पर सुरक्षित रखे हुए हैं। वह बेहद मिलनसार और हसमुख स्वभाव की थी। सभी लोगों से सम्मान के साथ बात करना और अपनी उपस्थिति को दर्ज कराना उन्हें अच्छे से आता था। वे अपने दोनों ही स्कूलों में शिक्षकों के लिए बेहद प्रिय रहीं।

अब कभी नहीं आएगा बिटिया का फोन

जो बिटिया रोजाना अपनी मां से घंटों बात किया करती थी। अपने दिल की हर बात को उनसे साझा किया करती थी अब वह अपनी मां को कभी भी फोन नहीं करेगी। सुरभि की मां नरगिस गुप्ता के बीच काफी अच्छे संबध थे। वे एक- दूसरे के साथ सहेलियों की तरह बात किया करती थीं। दोनों के बीच घंटों वार्ता होने के दौरान कई बार उनके पिता ने टोका भी कि कभी पिता से भी इतनी लंबी बात कर लिया करो, बेटी हंसकर उनकी नारजगी को दूर कर दिया करती थी। अपनी सहेली को खो देने का गम अब नरगिस से सहा नहीं जा रहा है। उनका रो रोकर बुरा हाल है। वह कहती हैं कि अब कैसे करेगी फोन कौन करेगा मुझसे बात।

साईं बाबा में थी सुरभि की श्रद्धा

सुरभि की सांई बाबा में अधिक श्रद्धा थी और उनका निधन भी गुरुवार को हुआ है जिसको देखकर परिवार के कई लोग सक्ते में हैं। पढ़ाई के दौरान सुरभि सभी पेपरों में जाने से पहले साईं बाबा से आशीर्वाद जरूर लेती थीं। जिसके बाद ही विद्यालयों में परीक्षा में शामिल होती थीं। गुरुवार को सांई की पूजा अधिक की जाती है। सुरभि अक्सर सोशल मीडिया पर साईं के साथ सेल्फी लेकर शेयर किया करती थी।

दो सप्ताह पूर्व परिवार संग मनाई थीं छुट्टियां

दो सप्ताह पूर्व ही सुरभी अपने पूरे परिवार के साथ छुट्टियां मनाने गईं थी। जिसमें उनके साथ उनके पिता और मां भी थीं। सभी ने जमकर मस्ती की और फोटो सोशल मीडिया पर शेयर किए। 17 जून को सुरभी ने अपनी फेसबुक आईडी पर अपने पिता सूर्य प्रकाश गुप्ता के साथ फोटो को शेयर किया और एक मैसेज लिखा। जिसे शायद ही अब उनके पिता कभी भूला सकेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mumbai plane crash : Badaun resident enginear Surabhi died in accident