DA Image
17 सितम्बर, 2020|3:45|IST

अगली स्टोरी

जानिए हत्या, लूट और डकैती जैसी वारदातों के 79 अपराधी के घर के बाहर क्यों लगाई गई पुलिस

know why the police is outside the home of 79 criminals of badaun

जिला कारागार से पैरोल पर निकले अपराधियों के दरवाजे पर अब रोजाना पुलिस जाएगी। उनकी मौजूदा स्थिति का लेखा-जोखा बीट बुक में भरकर सिपाही इसकी सूचना थाने को देंगे और थाने से यही सूचना अधिकारियों को मिलने के बाद आगे की प्रक्रिया अमल में लाई जायेगी। एक सजायाफ्ता द्वारा जिले में गिरोह बनाकर लूट की दो वारदातें करने के साथ ही एसएसपी संकल्प शर्मा ने जिले भर की थाना पुलिस को निर्देशित किया है।

एसपी सिटी प्रवीन सिंह चौहान को इस अभियान के पर्यवेक्षण की जिम्मेदारी भी सौंपी गई है। कोरोना संक्रमण के चलते जेल से 79 सजायाफ्ता अपराधियों को पैरोल पर छोड़ा गया है। इन्हीं सजायाफ्ता में श्रीराम उर्फ छिरिया नाम का अपराधी भी शामिल था। श्रीराम को हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई जा चुकी है। उसके खिलाफ हत्या, लूट, डकैती समेत जघन्य वारदातों के तकरीबन 20 मुकदमे दर्ज हैं। पैरोल पर छूटे श्रीराम ने गिरोह बनाकर पिछले दिनों फैजगंज बेहटा और दातागंज में लूट की कई वारदातों को अंजाम दिया।

हवाला कारोबारियों से भी  संपर्क

बिसौली के संग्रामपुर और लक्ष्मीपुर में मौजूद कुछ हवाला कारोबारियों से भी छिरिया के संपर्क हैं। वारदात को अंजाम देकर वह अपने गिरोह के साथ वहां एक व्यक्ति के यहां शरण लिये था। इसके बाद में बंटवारा हुआ और एक-एक करके तीनों निकल गये। छिरिया को भी पता है कि संक्रमण खत्म होने के बाद उम्र जेल में ही बीतनी है, इसलिए वह किसी भी वारदात से नहीं डर रहा है।

जमानत पर निकलने वालों पर भी नजर

इधर, जघन्य वारदातों में जेल में निरुद्ध  हुए शातिरों के जमानत पर रिहा होने के बाद भी पुलिस उन पर निगाह रख रही है। इस अभियान को बीट के सिपाहियों द्वारा पूरा कराया जा रहा है। इन शातिरों की आय के जरिये को भी देखा जा रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:know why the police is outside the home of 79 criminals of badaun