ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश बदायूंमित्रता कैसे निभाते, श्रीकृष्ण व सुदामा से समझा जा सकता

मित्रता कैसे निभाते, श्रीकृष्ण व सुदामा से समझा जा सकता

नई सराय पुलिस चौकी स्थित श्री राधा माधव मंदिर में श्री हिंदू युवा गणेश एवं मंडल के तत्वावधान में चल रही श्रीमद भागवत कथा ज्ञान यज्ञ में कथा व्यास...

मित्रता कैसे निभाते,  श्रीकृष्ण व सुदामा से समझा जा सकता
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,बदायूंSun, 22 Jan 2023 01:40 AM
ऐप पर पढ़ें

नई सराय पुलिस चौकी स्थित श्री राधा माधव मंदिर में श्री हिंदू युवा गणेश एवं मंडल के तत्वावधान में चल रही श्रीमद भागवत कथा ज्ञान यज्ञ में कथा व्यास पंडित रविकांत शास्त्री ने भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं से कथा का शुभारंभ किया।

कहा कि माता देवकी के कहने पर श्रीकृष्ण ने उनके छह पुत्रों को वापस लाकर दिया। मित्रता कैसे निभाई जाए यह भगवान श्रीकृष्ण व सुदामा से समझा जा सकता है। सुदामा अपनी पत्नी के कहने पर कृष्ण से मिलने द्वारिका जा पहुंचे। सुदामा द्वारिकाधीश का पता पूछकर महल की ओर बढ़ने लगे लेकिन द्वारपालों ने उन्हें भिक्षुक समझ कर रोक लिया। तब सुदामा ने कहा कि वह कृष्ण के मित्र हैं,जिस पर द्वारपाल ने सूचना प्रभु को दी कहा कि कोई बेहद निर्धन व्यक्ति द्वार पर खड़ा है और अपना नाम सुदामा बता रहा है। यह सुनकर प्रभु नंगे पैर ही दौड़े चले आये। सामने सुदामा को देखकर प्रभु ने उन्हें सीने से लगा लिया। मुमुक्ष कृष्ण शास्त्री महाराज, शुभम अग्रवाल, सत्यम शर्मा, अमन गोयल, राजन पटेल, केशव शर्मा, महेंद्र गुप्ता, रामकिशन गुप्ता, रविंद्र मिश्रा व अन्य उपस्थित रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें