Fake information of the robbery arrested for trapping the opposition - विरोधी को फंसाने के लिए दी लूट की फर्जी सूचना, गिरफ्तार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विरोधी को फंसाने के लिए दी लूट की फर्जी सूचना, गिरफ्तार

विरोधी को फंसाने के लिए दी लूट की फर्जी सूचना, गिरफ्तार

विरोधी को झूठे आरोप में फंसाने के लिए कॉलर ने पुलिस को 1.70 लाख रुपये की उसके साथ लूट सूचना दे डाली। जिससे पुलिस चकरघिन्नी बन गई। मामले की जांच पड़ताल की गई को पूरे मामला उजागार हो गया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ शांति भंग और पुलिस को गुमहार करने के आरोप में कार्रवाई करके कोर्ट के समक्ष पेश किया है।

मूसाझाग एसओ ललित कुमार भाटी ने बताया, सोमवार सुबह 5.25 बजे यूपी-100 व चार्ली कंट्रोल को कॉलर मोहकिन अली पुत्र छोटे अली निवासी गांव पिपला थाना हजरतपुर हाल निवासी गांव थल्लिया नगला थाना मूसाझाग द्वारा सूचना मिली कि उसके साथ 1.70 लाख रुपये व मोबाइल की लूट हो गई है। सूचना मिलते ही पुलिस में हड़कंप मच गया। सूचना पाकर एसओ मय पुलिस टीम के साथ घटनास्थल पर रवाना हो गए। जहां पीआरवी मौके मिली। कॉलर ने बताया कि वह गांव थल्लिया नगला से दातागंज जा रहा था कि मूसाझाग बाजार के पास सफेद कार सवार आधा दर्जन बदमाशों ने उसे घेर लिया और गुलड़िया जाने का रास्ता पूछा। कॉलर रास्ता बताने लगा तो इतने में कार सवार बदमाशों ने उसके ऊपर तमंचा तान दिया। जिसके बाद उससे 1.70 लाख रुपये व मोबाइल लूटकर बदायूं की तरफ भाग गये। एसओ ने मामले की जांच पड़ताल की तो पता लगा कि कॉलर मोहकिन अली का इसरार पुत्र नन्हें निवासी पिपला थाना हजरतपुर से रुपयों के लेन देन को लेकर विवाद चल रहा है। इससे पूर्व भी दोनों लोग एक दूसरे के पुलिस को झूठे शिकायती पत्र दे चुके है। एसओ ने बताया, पैसे की बात को लेकर कॉलर मोहकिन अली अपने विरोधी इसरार को लूट की झूठी सूचना में फंसाना चाहता था। इसी के चलते उसने यूपी 100 को झूठी सूचना दी थी। पूछताछ के बाद कॉलर ने पुलिस को झूठी सूचना देना स्वीकार किया है। मोहकिन अली नोएडा में रहकर फेरी का काम करता है। पुलिस ने आरोपी कॉलर मोहकिन अली पुलिस को गुमराह कर झूठी लूट की झूठी सूचना देने व क्षेत्र में अशांति फैलाने के आरोप में मुकदमा दर्जकर किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Fake information of the robbery arrested for trapping the opposition