DA Image
27 अक्तूबर, 2020|5:55|IST

अगली स्टोरी

बदायूं के ग्लेडियोलस की डिमांड दिल्ली-आगरा तक

 बदायूं के ग्लेडियोलस की डिमांड दिल्ली-आगरा तक

ग्लेडियोलस की खेती जिले के किसानों के लिए मुनाफे का सौदा बन गयी है। जनपद की ग्लेडियोलस की मांग बरेली के अलावा आगरा, हल्द्वानी, दिल्ली तक रहती है। किसानों ने बाहर ग्लेडियोलस की सप्लाई के लिए ट्रांसपोर्ट का जरिया रोडवेज बसों को बना लिया है। ग्लेडियोलस मिलने के बाद दूसरे शहरों के व्यापारी किसानों के खाते में सीधे रुपये ट्रांसफर कर देते हैं।

जिले के किसानों ने परंपरागत खेती से हटकर आय बढ़ाने के लिए फूलों की खेती शुरू कर दी है। उझानी, सालारपुर, जगत, अंबियापुर ब्लॉक के कई गांवों में गेंदा, गुलाब के अलावा किसान ग्लेडियोलस की खेती कर रहे हैं। किसानों को ग्लेडियोलस की खेती में अधिक मुनाफा है। ग्लेडियोलस का प्रयोग बुके बनाने में किया जाता है। इसकी मांग छोटे शहरों की अपेक्षा बड़े शहरों में अधिक रहती है। ऐसे में बदायूं में पैदा होने वाली ग्लेडियोलस की सप्लाई बरेली के अलावा आगरा दिल्ली तक की जाती है। सखानूं के ग्लैड उत्पादक अंजुम रहीस हल्द्वानी की मंडी में ग्लैड सप्लाई करते हैं। वहां पर ग्लैड का रेट बढ़िया मिल जाता है। ग्लैड की बिक्री ठेके के अलावा प्रति टहनी के हिसाब से होती है। भाव अगर बढ़िया मिले तो टहनी 20 से 30 रुपए तक की बिक जाती है।

ग्लैड उत्पादक अंजुम रहीस ने बताया कि ग्लैड की खेती कर किसान बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं। ग्लैड तैयार करने में कोई लागत भी अधिक नहीं आती है। इसकी मांग बुके बनाने के लिए वीआईपी आयोजन के लिए होती है। एक तैयार बुके की कीमत 100 से 150 रुपए तक होती है।

32 हजार का मिलता है अनुदान : ग्लेडियोलस की खेती करने के लिए उद्यान विभाग की ओर से भी बढ़ावा दिया जा रहा है। विभाग की ओर से प्रति हेक्टेयर पर 32 हजार के अनुदान की व्यवस्था है। अनुदान उत्पादक के खाते में डीबीटी के माध्यम से ट्रांसफर किया जाता है।

किसान बोले ट्रांसपोर्ट की दिक्कत : उझानी के हुसैनपुर पुख्ता, सालारपुर के कुआ डांडा के ग्लैड उत्पादकों का कहना है कि ग्लैड की सप्लाई में ट्रांसपोर्ट की समस्या आ रही है। वर्तमान में ट्रांसपोर्ट का माध्यम रोडवेज बसों को चुन रखा है। ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था बेहतर हो जाए तो मुनाफा बढ़िया हो सकता है।

ग्लेडियोलस की खेती की ओर किसानों का रुझान बढ़ा है। विभाग की ओर से भी किसानों का सहयोग किया जा रहा है। विभाग की ओर से प्रति हेक्टेयर 32 हजार रुपए अनुदान की व्यवस्था है। ग्लेडियोलस खेती पर अनुदान के लिए किसान कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। लक्ष्य के अनुसार उन्हें योजना से लाभांवित कराया जायेगा।

मुकेश कुमार, जिला उद्यान अधिकारी बदायूं

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Demand for Gladiolus of Badaun to Delhi-Agra