ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश बदायूंजमीन के विवाद में युवक की हत्या का मुकदमा दर्ज

जमीन के विवाद में युवक की हत्या का मुकदमा दर्ज

जमीन के विवाद को लेकर कुछ लोगों ने युवक की हत्या कर दी। हादसा दर्शाने के लिए उसका शव पटेल चौक स्थित बाइपास किनारे खंती में फेंक दिया। मृतक के पिता...

जमीन के विवाद में युवक की हत्या का मुकदमा दर्ज
हिन्दुस्तान टीम,बदायूंWed, 15 May 2024 12:45 AM
ऐप पर पढ़ें

जमीन के विवाद को लेकर कुछ लोगों ने युवक की हत्या कर दी। हादसा दर्शाने के लिए उसका शव पटेल चौक स्थित बाइपास किनारे खंती में फेंक दिया। मृतक के पिता की तहरीर पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की। जिसके चलते उन्होंने बरेली कमिश्नर से शिकायत की। कमिश्नर के आदेश पर सिविल लाइंस कोतवाली पुलिस ने पांच आरोपियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस मामले की जांच के साथ ही आरोपियों की तलाश में जुट गई है।
मामला सिविल लाइंस कोतवाली से जुड़ा है। बिनावर थाना क्षेत्र के गांव मलिकपुर निवासी श्यामवीर सिंह पुत्र जदुनाथ सिंह ने बरेली कमिश्नर से की शिकायत में बताया था कि उन्होंने दो साल पूर्व अपने सगे भाई श्यामपाल सिंह से एक खेत खरीदा था। जिसको लेकर उनका गांव निवासी सुनील पुत्र नंदन से विवाद हो गया था। उस दौरान गालीगलौज और मारपीट भी हुई थी। ग्रामीणों ने दोनों पक्षों को समझाकर फैसला करा दिया था। इसके बाद सुनील उनसे रंजिश मानने लगा था।

10 अप्रैल 2024 की शाम वह अपने बेटे रामौतार के साथ गांव निवासी राजपाल पुत्र बद्री की बेटी के लग्न समारोह में शामिल होने के लिए बितरोई गए थे। रात करीब 11 बजे पिता-पुत्र वापस आने की तैयारी में थे। उनके गांव के रहने वाले अजय, धर्मपाल, राजपाल, सुनील व गांव बितरोई निवासी नरेश डीजे पर मौजूद थे। अजय ने श्यामवीर सिंह से रामौतार को छोड़कर जाने को कहा। बताया कि वह लोग साथ आ जाएंगे। मना करने के बाद वह लोग जिद करने लगे और नहीं माने। गांव के अन्य लोगों के साथ रामौतार को रोक लिया और श्यामवीर चले आए। अगले दिन सुबह सात बजे गांव के अगर पाल सिंह ने बताया कि अजय की मां ने कहा है कि श्यामवीर को बता देना कि उनका बेटा रामौतार मर गया है। शव पटेल चौक के पास बाईपास किनारे खंती में पड़ा है। श्यामवीर अन्य लोगों के साथ मौके पर पहुंचे। जहां रामौतार का शव पड़ा मिला।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रामौतार की पसली टूटी मिली। उसके दिल में भी चोट लगी थी। श्यामवीर के मुताबिक, उनके कार्यक्रम से जाने के बाद उन लोगों का रामौतार से झगड़ा और मारपीट हुई थी। जिसमें रामौतार की मौत हुई थी। हादसा दिखाने के लिए शव खंती में फेंका गया था। घटना की रात से आरोपी अपने घर से फरार हैं। तहरीर देने के बाद भी पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। कमिश्नर के आदेश पर राजपाल, अजय, सुनील, धर्मपाल और नरेश के खिलाफ हत्या के आरोप में मुकदमा दर्ज किया है। सिविल लाइंस कोतवाली इंस्पेक्टर गौरव विश्वनोई ने बताया कि तहरीर के आधार पर मुकदमा कायम कर लिया है। जांच की जा रही है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें