Ayodhya returns to Bharat - भगवान श्रीराम के वनवास की खबर सुन भरत लौटे अयोध्या DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भगवान श्रीराम के वनवास की खबर सुन भरत लौटे अयोध्या

भगवान श्रीराम के वनवास की खबर सुन भरत लौटे अयोध्या

राम कथा समिति शरह बरौलिया के तत्वावधान श्रीराम कथा के सातवें दिन बाजर मैदान में वृंदावन से आए कथावाचक प्रेम मूर्ति पंडित पंकज मिश्र द्वारा भगवान श्रीराम वनवास जाने के बाद भरत की व्यथा कथा का मार्मिक वर्णन किया।

श्रीराम के वन जाने की खबर जैसे ही अनुज भरत को मिली, वह अपना ननिहाल छोड़कर अयोध्या दौड़े चले आए। वापस आते ही जब उन्हें यह मालूम हुआ कि स्वयं उनकी माता कैकेयी ने ही भाई राम को अयोध्या छोड़ने के लिए विवश किया तो भरत ने अपनी मां को अपनाने से मना कर दिया।भरत ने अपनी मां को खरी-खोटी सुनाई, ऐसे में जैसे ही मंथरा ने आगे बढ़कर भरत को मां कैकेयी की ममता की व्याख्या देना चाहा। मौके पर भाई शत्रुधन ने आकर भरत को रोका और एक स्त्री पर हाथ उठाकर किए जाने वाले पाप से रोका।

उन्होंने भरत को समझाया कि हमारे संस्कार एक नारी पर अत्याचार करना नहीं सिखाते, फिर चाहे उसने कितने ही बुरे कर्म क्यों न किए हों। कथा वाचक के अनुसार त्रेता युग मस विपत्ति आने और उनके आपस मे बाटने लर भी शांति थी आज इस कलयुग में भाइयो में संपत्ति के बटने के बाद भी अशांति है।

राम कथा में देवपाल सिंह,विवेक उपाध्याय, अंकित कटिया, पप्पू दुबे,लकी गुप्ता नेत्रपाल कटिया विनीत कटिया मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ayodhya returns to Bharat